आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

18 जून 2011

गंगा-सरयू व सोन के संगम चिरांद पर आस्था का सैलाब
ganga aarti on chirand
छपरा : मानव के उत्थान व पतन का साक्षी 'चिरांद' बुधवार की संध्या गंगा के प्रति लोगों के हृदय में अपार श्रद्धा का साक्षी बना। ज्येष्ठ पूर्णिमा की धवल चांदनी रात में ज्ञान, वैराग्य व राम की कीर्ति के प्रतीक तीन पवित्र नदियों के संगम पर स्थित इस अति महत्वपूर्ण पुरातात्विक स्थल पर गंगा महाआरती के रूप में जो सांस्कृतिक धारा प्रवाहित हुई वह दिव्य आनंद का अनुभूति कराते हुए त्रिपथगा मां गंगा की रक्षा के संकल्प सभा में बदल गयी। इस अवसर पर चिरांद के गौरवशाली अतीत को लौटाने की भी बात हुई। इस संकल्प सभा में प्रमंडल के वरीय प्रशासनिक अधिकारी, देश के विभिन्न तीर्थो से पधारे धर्माचार्य, शिक्षाविद्, कानूनविद् व सामाजिक कार्यकर्ता भी शामिल थे। चिरांद विकास परिषद के तत्वावधान में पिछले तीन वर्षो से यह आयोजन होता रहा है। महाआरती के समय ही बारिश शुरू हो गयी लेकिन गंगा के प्रति आस्था ने लोगों को वहां समेटे रखा।
सारण के जिला मुख्यालय छपरा से महज दस किलोमीटर की दूरी पर स्थित गंगा-सरयू व सोन के संगम पर आज काशी-हरिद्वार का दर्शन हो रहा था। कतारबद्ध आसन किए धर्माचार्यो के आदेश पर काशी से आए बटुकों ने वैदिक मंत्रों व शिव-गंगा स्त्रोतों की सांगीतिक प्रस्तुतियों के बीच मां गंगे की आरती शुरू की तो घाट पर उमड़ा विशाल जनसैलाब बिल्कुल मौन हो गया। गंगा की ओर से आ रहे पवन के झोंकों की सांय-सांय की आवाज मंत्रों व स्त्रोतों को मानो स्वर दे रही थी।
आरती के बाद सारण के प्रमंडलीय आयुक्त इन्द्रसेन सिंह ने सांस्कृतिक समारोह का उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि गंगा व चिरांद जैसे धरोहर की रक्षा व विकास के इस प्रयास में सरकार भी आपके साथ खड़ी है। वहीं समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित सारण के जिलाधिकारी विनय कुमार ने कहा कि जनचेतना जागरण से ही गंगा जैसी नदियों की रक्षा सम्भव है। उन्होंने कहाकि चिरांद को पर्यटन के विश्व मानचित्र पर लाने के प्रयास शुरू हो गए हैं। उन्होंने कहाकि जहां आवश्यकता होगी हम साथ हैं।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    6 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook