आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

16 अगस्त 2011

15 अगस्त से 21 अगस्त: निराहार रखें श्रीकृष्ण जन्माष्टमी


15 अगस्त से 21 अगस्त: निराहार रखें श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 

मंगलवार, 16 अगस्त: कज्जली नामक बड़ी तीज । सातू तीज
बुधवार, 17 अगस्त: संकष्टी श्री गणेश चतुर्थी व्रत । संकट चौथ व्रत । चंद्रोदय रात्रि 8 बजकर 43 मिनट पर। बहुला चतुर्थी व्रत। संक्रांति, सौर सिंह राशि में सूर्य।
गुरूवार, 18 अगस्त: रक्षा पंचमी, उड़ीसा। बीजांकुरा पंचमी।
शुक्रवार, 19 अगस्त: चंदन षष्ठी व्रत। ऊभी षष्ठी व्रत। ललही छट बिहार। पुत्रार्थी व्रत आरंभ।
शनिवार, 20 अगस्त: हल षष्ठी व्रत। माधवदेव तिथि असम।
रविवार, 21 अगस्त : श्री कृष्ण जन्माष्टी व्रत स्मार्त जनों का। कालाष्टमी व्रत। श्री आद्याकाली जयन्ती। शीतला व्रत।

16 अगस्त: कज्जली तीज, सातू तीज, बड़ी तीज 
भाद्रपद कृष्ण पक्ष तृतीया के दिन पूर्वी उत्तर भारत में कजरी या कज्जली तीज का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस अवसर पर सुहागिनें कजरी खेलने अपने मायके जाती हैं। ये महिलाएं नदी-तालाब आदि से मिट्टी लाकर उसका पिंड बनाती हैं और उसमें जौ के दाने बो देती हैं। रोज इसमें पानी डालने से पौधे निकल आते हैं। इन पौधों को कजरी वाले दिन लड़कियां अपने भाई तथा बुजुर्गों के कान पर रखकर उनसे आशीर्वाद प्राप्त करती हैं। इस प्रक्रिया को शजरई खोंसना कहते हैं। इसके एक दिन पूर्व यानी भाद्रपद कृष्ण पक्ष द्वितीया को रतजगा का त्योहार होता है। महिलाएं रात भर कजरी खेलती हैं। इस दिन स्त्रियां बागों में झूले डाल कर झूला झूलती हैं। सावन में स्त्रियां ही नहीं, पुरुष भी मंदिर में जाकर भगवान को झूले में बिठाकर झूला झुलाते हैं। वे झूले में झूलते भगवान को झूम-झूमकर मनभावनी कजरी सुनाते हैं।

17 अगस्त: संकष्टी श्रीगणेश चतुर्थी व्रत 
वैसे तो गणेश जी का उद्भव यानी जन्म भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को हुआ था, लेकिन भाद्रपद मास की कृष्ण चतुर्थी को संकट यानी संकटहरण चतुर्थी के रूप में मनाया जाता है। इस बार यह पवित्र व्रत बुधवार 17 अगस्त को पड़ रहा है। वैसे तो पूरे साल के प्रत्येक पक्ष में गणेश जी के निमित्त चतुर्थी तिथि को व्रत रखते हैं। शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी या गणेश चतुर्थी कहते हैं, जबकि कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को श्रीकृष्ण चतुर्थी कहते हैं। चतुर्थी के व्रत के दिन प्रात:काल में स्नान के उपरांत गणेश जी की मिट्टी की मूर्ति बनाकर पूजा करनी चाहिए । अगर गाय का गोबर मिल जाए तो शुद्ध गोबर से भी गणेश की प्रतीकात्मक मूर्ति बनाई जा सकती है। पूजन के समय दूब के 21 अंकुर लेकर और उनके दो दो अंकुर एकसाथ लेकर गणेश जी के 12 नामों की प्रतिष्ठा करनी चाहिए और उन 12 नामों को 12 लड्डूओं से भोग लगाना चाहिए।

21 अगस्त: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 
भगवान कृष्ण का जन्म भाद्रपद कृष्ण की अष्टमी, बुधवार, रोहिणी नक्षत्र एवं वृषराशि के चंद्रमा में हुआ था, अत: इस दिन जन्माष्टमी व्रत रखने का विधान है। इस व्रत को स्मार्त जन पहले दिन तथा वैष्णव अगले दिन रखते हैं। इस व्रत को बाल, युवा, वृद्ध सभी कर सकते हैं। यह व्रत अर्द्धरात्रि में पड़ने वाली अष्टमी तिथि को किया जाता है। सिद्धांत रूप से यह अधिक मान्य है। जिन्होंने विशेष विधि विधान के साथ वैष्णव संप्रदाय की दीक्षा ली हो, वे वैष्णव कहलाते हैं। अन्य सभी लोग स्मार्त हैं। लोक व्यवहार में वैष्णव संप्रदाय के साधु-संत आदि उदयकालीन एकादशी तथा जन्माष्टमी आदि के दिन ही व्रत करते हैं। व्रती व्रत से पहले दिन अल्प भोजन करे तथा प्रात: काल उठकर स्नान एवं दैनिक पूजा पाठादि से निवृत्त होकर संकल्प करे कि मैं भगवान कृष्ण की अपने ऊपर विशेष अनुकंपा हेतु व्रत करूंगा, सर्वअंतर्यामी परमेश्वर मेरे सभी पाप, शाप, तापों का नाश करें । उन्हें ब्रह्माचर्य का पालन भी करना चाहिए। दिन और रात भर निराहार व्रत करें। अगर इसमें कठिनाई हो तो बीच में फलाहार, दूध आदि ले सकते हैं।

21 अगस्त, रविवार: कालाष्टमी व्रत 
हर मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को कालाष्टमी का व्रत रखा जाता है। इस दिन स्नान आदि के उपरांत काल भैरव मंदिरों की पूजा अर्चना की जाती है। काल भैरव का स्वरूप शिव जी के स्वरूप के ही समान है जो नव दुर्गाओं के अंगरक्षक के रूप में सदा उनके साथ तैनात रहते हैं। प्रत्येक दुर्गा मंदिर में काल भैरव का मंदिर भी बनाया जाता है, जिसकी पूजा अर्चना कृष्ण पक्ष की अष्टमी के दिन श्रद्धालु जन करते हैं। इस दिन नवदुर्गाओं की पूजा-अर्चना के साथ साथ काल भैरव को खिचड़ी, चावल, तेल, गुड़ आदि का भोग लगाया जाता है। यह व्रत रोग, दुख और शत्रु पीड़ा निवारण में सहायक होता है। कालाष्टमी व्रत अकालमृत्यु निवारक तो है ही, साथ ही उन भौतिक तापों का हरण करता है जिनके प्रकोप से व्यक्ति अकाल मृत्यु को प्राप्त होता है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    6 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook