आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

11 जुलाई 2011

BHIKHARIYON KE DESH MEN DHANI BHAGWAAN

भिखारियों के देश में धनी भगवान

treasure-sree-padmanabhaswamy

treasure-sree-padmanabhaswamy-temple-thiruvananthapuram
अक्सर सोचता था कि सड़क पर भीख मांगने वाले लोग भगवान, ईश्वर, अल्ला के नाम पर ही क्यों मांगते हैं? सड़क पर चलते समय कोई भिखारी आकर आपसे कहेगा, ‘भगवान के नाम पर कुछ दे दे बाबा’। फिर आप भी भगवान के नाम पर दो-चार-पांच रूपये के सिक्के उस भिखारी को दे देते हैं। यह सोचकर कि किसी गरीब की मदद करने से आपका भी थोड़ा-बहुत भला हो जाए। लेकिन ऐसा नहीं होता, क्योंकि हम जिस देश में रह रहे है उस देश का एक उसूल है कि जो गरीब है वो गरीबी में मरेगा और जो अमीर है वो और अमीर होता जाएगा।
देश में आज भी गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले 41 प्रतिशत से ज्यादा हैं। पूरा भारत वर्ष इन्हीं 41 फीसदी लोगों के बदौलत चल रहा है। जो मध्यम वर्ग का है वो अपने जीवन को एक स्तर पर ठीक-ठाक चला लेता है और जो अमीर है वो वैसे भी हिन्दुस्तान से ज्यादा विदेशी सैर सपाटे में उलझा रहता है। आम आदमी ही है जो मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारा और चर्च में जाकर सभी की सलामती की दुआएं करता है। बाकी करोड़पति, व्यवसाईयी लोगों को तो धन कमाने से ही फुरसत नहीं है। वो भला भगवान के द्वार पर जाकर भी क्या करेंगा? भगवान ने उन्हें पहले से ही सब कुछ दे रखा है।
जो करोड़ो की सम्पत्ति के बलबूते पर खुद को सम्पन्न समझते हैं। वो अपने धन को भगवान के चरणों से ज्यादा स्वीच बैंकों में सुरक्षित समझते हैं। वहीं देश का आम आदमी जो गरीबों की गिनती में आता है, भगवान, ईश्वर अल्ला, वाहगुरू, रव, खुदा, गोड, में भरोसा रखता है। वही लोग हैं जो मंदिरों में अपनी खून पसीने की कमाई को भगवान के चरणों में समर्पित करते है। इस उम्मीद के साथ कि आज नहीं तो कल ऊपर वाला उनकी मन की मुराद पूरी करेगा। किसी की कन्या का विवाह होना है। किसी को अपने बेटे की नौकरी की दुआ करनी है। कोई अपना खुद का घर बनाना चाहता है। तो कोई ईश्वर से सबकी सलामती की दुआ करता है। ऐसे ही लोग भगवान के चरणों में कुछ न कुछ समपर्ण की भावना से जाते हैं।
हिन्दुस्तान का इतिहास अगर देखा जाए तो लाखों वर्षों से यही रीत चली आ रही है। फिर चाहे वो किसी राजा का साम्राज्य रहा हो, किसी राजा की रियासत रही हो, लालाओं की जमीदारी हो या फिर आज के दौर की लोकतांत्रिक व्यवस्था सभी युगों में धर्म आस्था पर करोड़ों रूपये न्यौछावर करने वालों की कमी नहीं रही। लेकिन वो सारी धन संपदा उस आम आदमी की हैं जो दिन भर मेहनत मजदूर करने के बाद अपनी कमाई का कुछ अंश भगवान को समर्पित करता है।
RAJESH MISHRA, KOLKATA, WEST BENGAL
हमें इन सब बातों को इस बजह से भी उठाना पड़ा है कि बीते कुछ माह से मंदिरों में मिली अटूट सम्पत्ति ने आम आदमी की आंखें खोल दी है। जिसने भी मंदिरों से मिले खजाने की बात को सुना उसके कान खड़े के खड़े रह गये, जिसने देखा तो उसकी आंखे फटी की फटी रह गयी। जहां मंदिरों के बाहर भिखारी एक-एक रूपये की भीख मांगकर अपना पेट भरने की कोशिश करता है। वहीं मंदिरों के अंदर इतनी सम्पत्ति को संग्रहित करके रखा गया था।
बीते फरवरी माह में उड़ीसा के धार्मिक शहर पुरी में 700 साल पुराने एक मठ से चांदी की 522 ईंटे मिली। बरामद हुई ईंटों का वजन 18.87 टन है और बाजार में इसकी कीमत करीब 90 करोड़ रुपए है। चार बड़े संदूकों में बंद ये ईंटें पुरी के विश्व प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर के ठीक सामने स्थित एमार मठ के एक बंद तहखाने में से मिली हैं। चांदी की ये ईंटें कम से कम सौ साल पुरानी हैं। एक ईंट का वजन 38-40 किलो है और कई ईंटों पर सैन फ्रांसिस्को, शंघाई और कलकत्ता शब्द खुदे हुए हैं। हमने इस बारे में पुरातत्व विभाग को सूचना दे दी है। उनके विशेषज्ञों द्वारा इन ईंटों कि जांच के बाद ही उनकी प्राचीनता के बारे में सही तथ्य पता चलेगा।
इसके बाद सत्य साईं बाबा के निधन के बाद उनके ट्रस्ट में भी 5000 करोड़ रूपये की संपत्ति का मिलना लोगों के लिए किसी अचम्भे से कम नहीं था। फिर देश के एक और बड़े खजाने का खुलासा हुआ। केरल के श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर में बरसों से छिपी अकूत संपदा का पता चला है। केरल में त्रावणकोर के राजा इस मंदिर के मालिक रहे। भारत की आजादी से केवल एक साल पहले पाँच सौ से ज्यादा राज्यों ने गदर का परचम उठाया। ये सभी राज्य आजादी की मांग कर रहे थे। लेकिन आखिरकार त्रावणकोर रियासत ने भारत में शामिल होने का फैसला कर लिया। भारतीय संघ में शामिल होने के बावजूद उनका 16वीं शताब्दी के श्री पद्मनाभास्वामी मंदिर पर अधिकार बना रहा।
अटकलें लगायी जा रही हैं कि मंदिर के छह तहखानों में कितनी संपत्ति होगी? यहाँ बेहद पुराने सोने की जंजीरें, हीरे-जवाहरात और कीमती पत्थर रखे होने की अटकलें लगाई जा रही हैं। इस संपत्ति की कीमत पैसे में नहीं आँकी जा सकती। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यहाँ सोने से भरी 450 हांडियाँ, 2,000 रूबी और जड़ाऊ मुकुट, सोने की 400 कुर्सियाँ और एक मूर्ति जिसमें 1,000 हीरे जड़े हुए हैं। इनकी कीमत बीस अरब डॉलर बताई जा रही है जो कि भारत का शिक्षा बजट जितना है।
माना जाता है कि श्री पद्मानाभास्वामी (विष्णु) मंदिर के चार में से दो तहखानों को पिछले 130 वर्षों से खोला नहीं गया था। जबकि छठे तहखाने को खोलना अभी भी बाकी है। मंदिर का छठा तहखाना खुलने पर क्या होगा यह तो सवालों के घेरे में हैं? 16वीं सदी के इस मंदिर भूमिगत तहखानों से अरबों रुपए के कीमती हीरे, सोना और चांदी बरामद होना इस बात की गवाही है कि देश में श्रद्धा और आस्था के चलते लोगों ने कितनी संपत्ति को मंदिरों में जमा कर रखा है।
मंदिरों में जमा यह धन संपदा किस काम की जब देश में भुखमरी, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार से गरीबी अपना दम भर रही हो। अनुमान लगाया जा रहा है मंदिर में प्राप्त संपदा इतनी है जिससे देश का शिक्षा बजट चलाया जा सकता है और शिक्षा बजट ही क्यों न जाने कितने बजट चलाये जा सकते हैं। तो फिर इस धन को किसी नेक काम में क्यों नहीं लगाते? और ऐसा न जाने कितने मंदिर होंगे जिनमें लाखों-करोड़ों की संपत्ति भरी पड़ी होगी।
फिलहाल जो भी हो इस संपदा को देखने के बाद हर कोई यही कहेंगा कि ‘भिखारियों के देश में धनी भगवान’ जहां गरीबी के चलते लोग भिक्षावृत्ति के लिए मजबूर हैं और भगवान के मंदिरों में धन दौलता का अम्बार लगा है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    6 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook