आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

16 जुलाई 2011

भोले भंडारी का प्रिय श्रावण मास

SHIVLING
BABA BHOLENATH KI
श्रावण मास 16 जुलाई से प्रारंभ हो गया है, जो 13 अगस्त तक रहेगा। भगवान शिव को यह मास अतिप्रिय है। श्रावण मास लगते ही जहां मन में सुकून और ठंडक का अहसास होता है, वहीं धरती पर हरियाली लहराने लगती है। प्रकृति को सजा-संवरा देख वन-उपवन में मयूर नाचने लगते हैं। मेघ मल्हार गाते हैं और श्रावण के स्वागत में हर दिल में सावन के गीत गूंज उठते हैं कि सावन को आने दो...

भगवान शिव की पूजा-अर्चना का पवित्र महीना श्रावण मास शुरू हो गया है। प्रथम श्रावण सोमवार, 18 जुलाई को मनाया जाएगा। शिवालयों में अलसुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ने लगेगी तथा बम-बम भोले से मंदिर गुंजायमान होंगे।

माना जाता है कि शिव के त्रिशूल की एक नोक पर काशी विश्वनाथ की नगरी का भार है। उसमें श्रावण मास भी अपना विशेष महत्व रखता है। इसलिए श्रावण का महीना अधिक फल देने वाला होता है। 

श्रावण माह में एक बिल्वपत्र शिव को चढ़ाने से तीन जन्मों के पापों का नाश होता है। एक अखंड बिल्वपत्र अर्पण करने से कोटि बिल्वपत्र चढ़ाने का फल प्राप्त होता है। 

इस मास के प्रत्येक सोमवार को शिवलिंग पर शिवामुट्ठी चढ़ाई जाती है। इससे सभी प्रकार के कष्‍ट दूर होते हैं तथा मनुष्य अपने बुरे कर्मों से मुक्ति पा सकता है। 
SHIV SHANKAR, BHOLE, TRIPURARI

प्रथम सोमवार को कच्चे चावल एक मुट्ठी। 
दूसरे सोमवार को सफेद तिल्ली एक मुट्ठी। 
तीसरे सोमवार को खड़े मूंग की एक मुट्ठी। 
चौथे सोमवार को जौ एक मुट्ठी। 
पांचवें सोमवार को सतुआ चढ़ाना चाहिए। 

साथ ी भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने के लिए शिव को कच्चा दूध, सफेद फल, भस्म तथा भांग, धतूरा, श्वेत वस्त्र अधिक प्रिय है। श्रावण मास में शिवभक्तों द्वारा शिव पुराण, शिवलीलामृत, शिव कवच, शिव चालीसा, शिव पंचाक्षर मंत्र, शिव पंचाक्षर स्त्रोत, महामृत्युंजय मंत्र का पाठ एवं जाप किया जाता है। श्रावण मास में इसके करने से अधिक फल प्राप्त होता है। 

आषाढ़ में गरज-चमक के साथ बदरवा बरसते हैं तो सावन में सेरे आते हैं वहीं भादौ में लगती है बारिश की झड़ी, लेकिन व्रत-त्योहार की झड़ी श्रावण से लगेगी जो भादौ, क्वांर व कार्तिक मास तक चलेगी। माह के अन्य व्रत त्योहारों के अलावा हरियाली अमावस्या, नागपंचमी, रक्षाबंधन विशेष रूप से होंगे।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    7 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook