आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

19 नवंबर 2011

Shirdi Wale Sai Baba


मनोरथ सिद्ध करते हैं 
शिरडी के सांई बाबा



सांई बाबा जगतगुरु कहलाते हैं। हिन्दू धर्म मान्यताओं में सांई बाबा को महायोगी भगवान दत्तात्रेय का अवतार भी माना जाता है। दत्तात्रेय भक्ति की तरह ही सांई भक्ति और नाम स्मरण जीवन पर मण्डराएं संकट का फौरन अंत करने वाले और मनोरथ को सिद्ध करने वाले माने गए हैं। 

साईं बाबा (28 सितंबर, 1835– 15 अक्तूबर, 1918), एक भारतीय संत एवं गुरू हैं जिनका जीवन शिरडी में बीता। साईं बाबा ने कई लोक कल्याणकारी कार्यों को किया तथा जनता में भक्ति एवं धर्म की धारा बहाई। इनके अनुयायी भारत के सभी प्रांतों में हैं एवं इनकी मृत्यु के लगभग 90 वर्षों के बाद आज भी इनके चमत्कारों को सुना जाता है।

गुरुवार का दिन सांई बाबा की पूजा व स्मरण का विशेष व शुभ दिन माना जाता है। धार्मिक आस्था कहती है कि सांई बाबा का किसी भी रूप में स्मरण मंगलकारी ही है। किंतु हर भक्त का भी यह कर्तव्य बनता है कि सांई बाबा की बताई तीन बातों को हमेशा जेहन में रखें। अन्यथा सांई भक्ति की सार्थकता कहीं खो जाएगी। क्या है वे तीन बातें? जानते हैं -

श्रद्धा - सांई का यह सूत्र मात्र धार्मिक अर्थों में नहीं बल्कि व्यावहारिक रूप से भी अहम है। श्रद्धा के पीछे यही संदेश है कि जीवन में आप जिस भी रिश्ते या काम से जुड़ें उसके प्रति समर्पण, निष्ठा और ईमान के साथ-साथ त्याग भाव रखें।

सबूरी - सांई का एक ओर सूत्र जीवन में सुखी रहने का श्रेष्ठ उपाय है। यह है - सबूरी। इसके पीछे भाव यही है कि संतोष, धैर्य या संयम द्वारा जीवन में स्थिरता और आनंद लाएं। असंतोष या असंयम बैचेनी, कलह या संताप का ही कारण बनते हैं।

एकता - सांई बाबा का यह सूत्र बताता है कि मानवता ही सबसे बड़ा धर्म है। धर्म की कट्टरता व संकीर्णता से बचकर हर धर्म का सम्मान व अलग-अलग ईश्वर के रूपों को एक मानकर दर्शन और विश्वास प्रेम, परोपकार, दया, त्याग जैसी धर्म भावों को बनाए रखता है। सांई बाबा ने इसी भावना को 'सबका मालिक एक' बोलकर एक सूत्र में पिरोया।

साईं का सन्देश :

सबका मालिक एकसाई बाबा की सबसे बडी शिक्षा और सन्देश है कि जाति, धर्म्, समुदाय, आदि व्यर्थ की बातो मे ना पड कर आपसी मतभेद भुलाकर आपस मे प्रेम और सदभावाना से रहना चाहिए क्योकि सबका मलिक एक है।श्रद्धा और सबूरीसाई बाबा ने अपने जीवन मे यह सन्देश दिया है कि हमेशा श्रद्धा और विश्वास के साथ जीवन यापन करते हुए सबूरी (सब्र)के साथ जीवन व्यतीत करे।

मानवता ही सबसे बड़ा धर्म है
साई बाबा ने कभी भी किसी को धर्म की अवहेलना नही की अपितु सभी धर्मों का सम्मान करने की सलाह देते हुए हमेशा मनवता को ही सबसे बडा धर्म और कर्म बताते हुए जीवन जीने की अमूल्य शिक्षा प्रदान की है।

जातिगत भेद भुला कर प्रेम पूर्वक रहना
साई बाबा ने कहा है की जाति,समाज,भेद-भाव,आदि सब बाते ईश्वर ने नही बल्कि इंसानों द्वारा बनाया गया है इसलिए ईश्वर की नजर मे न तो कोई उच्च है और न ही कोई निम्न इसलिए जो काम ईश्वर को भी पसद नही है वह मनुष्य को तो करना ही नही चाहिए अर्थात जात-पात,धर्म,समाज आदि मिथ्या बातों में न पड़ कर आपस मे प्रेमपूर्वक रहकर जीवन व्यतीत करना चाहिए।

गरीबो और लाचार की मदद करना सबसे बड़ी पूजा है
साई बाबा ने हमेशा ही सभी जनमानस से यही बार-बार कहा है कि सभी के साथ ही समानता का व्यवहार करना चाहिए। गरीबों और लाचारों की यथासम्भव मदद करना चाहिए और यही सबसे बडी पूजा है। क्योकि जो गरीबों, लाचारों की मदद करता है ईश्वर उसकी मदद करता है।

माता-पिता, बुजुर्गो, गुरुजनों, बडो का सम्मान करना चाहिए
साई बाबा हमेशा ही समझाते थे कि अपने से बडो का आदर सम्मान करना चाहिए। गुरुजनो बुजर्गो को सम्मान करना जिसस उनका आर्शीवाद प्राप्त होता है जिससे हमारे जिवन की मुश्किलों मे सहायता मिलती है।

क्या-क्या देखें : 

शिरडी ही साई बाबा है और साई बाबा ही शिरडी,एक दूसरे का प्रत्यक्ष पर्यायवाची होने के साथ-साथ यह आध्यामिक भी है। यहां स्थित सभी उद्यम,रेस्तरां,शोरूम,स्कूल,कॉलेज और होटल शहर के 10 किलोमीटर के दायर में ही है। इन सबके साथ साई का नाम जुड़ा हुआ है। साई शब्द के उच्चारण से आशा और आदर का भाव उत्पन्न होता है।

परिसर में बाबा का म्यूज़ियम  है जहाँ साईं बाबा का कुरता, चिलम, उनका भिक्षा लेने कापात्र, पालकी, जिसमे बाबा ने खिचडी बनाई थी वो ताम्बे की हंडी, बाबा का नहाने का पत्थर और बहुत सी चीजे हैं. इसी परिसर में बाबा का लेंडी बैग भी है जहाँ बाबा पेड़-पौधों में पानी लगते थे. यहाँ वो कुआँ भी है जिसमे से बाबा पानी भरते थे.

इसके आलावा यहाँ श्रधालुओं के लिए रेलवे आरक्षण, रक्तदान, चिकित्सालय, बैंक ATM भी है. आपको एक खास बात बता दूं की इस परिसर में कैमरा या मोबाइल ले जाना सख्त माना है. इसलिए आप कैमरा या मोबाइल अपने होटल में ही छोड़ कर जाएँ. 

भारत के किसी भी कोने से आप शिरडी आराम से पहुँच सकते हैं...

साईं की चर्चित भजन 

शिरडी वाले सांई बाबा आया है तेरे दर पे सवाली

जमाने ने कहा टूटी हुई तश्वीर बनती है,
तेरे दरबार में बिगड़ी हुई तक्दीर बनती है ।

तारीफ तेरी निकली है दिल से,
आयी है लव बनके कवाली
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

लव पे दुआएँ आँखो में आंसू
दिल में उम्मीदें पर झोली खाली
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

दर पे सवाली आया दर पे सवाली,
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

ओ मेरे सांई देवा तेरे सब नाम लेवा ।
ओ मेरे सांई देवा तेरे सब नाम लेवा ।

खुदा इनसान सारे सभी, तुझको हैं प्यारे,
सुने फरियाद सबकी, तुझे है याद सबकी,
बड़ा या कोई छोटा, नहीं मायूस लूटा,
अमीरों का सहारा, गरीबों का गुजारा,
तेरी रहमत का किस्सा ब्यान अकबर करे क्या,
दो दिन की दुनिया, दुनिया है गुलशन,
सब फूल कांटे, तू सब का माली,
शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

खुदा की शान तुझमें,
दिखें भगवान तुझमें--------2


तुझे सब मानते है,
तेरा घर जानते है,
चले आते है दौड़े,
जो खुश किस्मत है थोड़े,
ये हर राही की मन्जिल,
ये हर कश्ती का साहिल,
जिसे सब ने निकाला,
उसे तूने सम्भाला,

जिसे सबने निकाला, उसे तूने सम्भाला.......

तू बिछड़ों को मिलाये,
बुझे दीपक जलाये---------2


ये गम की रातें, रातें ये काली,
इनको बनादे ईद और दीवाली

शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली ।

लव पे दुआएँ आँखो में आंसू
दिल में उम्मीदें पर झोली खाली

शिरडी वाले सांई बाबा
आया है तेरे दर पे सवाली--------४


मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    7 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook