आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

31 मार्च 2012

मां झड़ाना माता

देवी के इस मंदिर में आज भी होता है आग का चमत्कार
भगवान अपने होने का प्रमाण हमेशा देते रहते हैं, और हमारे भारतवर्ष में तो ईश्वर के चमत्कार हर चार कदम पर देखे जा सकते हैं। ऐसे कई स्थान हैं जो हमें यह अहसास कराते रहते हैं कि दुनिया में भगवान नाम की कोई शक्ति है जो हमेशा हम पर अपनी कृपा दृष्टी बरसा रही है। राजस्थान के उदयपुर जिले में भी एक ऐसा ही स्थान है जहां शक्ति स्वरूप मां झड़ाना माता के रूप में विद्यमान है जो कि राजपूत और भील समुदाय के साथ-साथ सम्पूर्ण मेवाड़ की अधिष्ठात्री देवी है। लोगों की मान्यता है कि देवी के इस दरबार में आकर लकवा के रोगी पूर्ण रूप से ठीक हो जाते हैं। साथ ही यह भी मान्यता है कि देवी हर महीने दो या तीन बार स्वयं अग्नि से स्नान करती है, स्वत: जाग्रत हुई इस अग्नि में मां की चुनरी, धागे सभी जलकर भष्म हो जाते हैं। लकवा के रोगियों के अलावा यहाँ निसंतान दंपत्ति भी संतान की कामना लिए आते हैं और अपनी झोली भर जाने पर माता के इस मंदिर में झूला चढ़ाते हैं, माता के इस मंदिर में त्रिशूल चढ़ाने की परंपरा भी काफी पुरानी है, साथ ही यहां लकवा से मुक्ति पाए भक्त चांदी और लकड़ी के अंग भी मां के दरवार में भेंट करते हैं। इस स्थान पर मां का दरवार एक खुले चौक में ही स्थित है कहा जाता है कि मां के स्नान के लिए प्रक्कत होने वाली अग्नि के कारण यहां कोई मंदिर नहीं बनाया जा सका है।मां के इस स्थान का इतिहास कितना पुराना है इसके बारे में कोई नहीं जानता, हां लोग इतना ज़रूर कहते हैं कि इस स्थान पर पहले संत महात्मा तपस्या किया करते थे धीरे-धीरे यहां गांव वालों का आना हुआ और यह स्थान आस्था का केंद्र बनता गया। मां झड़ाना का यह स्थान उदयपुर शहर से 60 किमी. दूर कुराबड- बम्बोरा मार्ग पर अरावली पर्वत माला के बेच स्थित है,यह स्थान मेवाड़ के प्रमुख शक्ति पीठों में से एक है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    7 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook