आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार (Year's 2016festival) नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

09 मई 2012

रथयात्रा – मोक्ष की ओर प्रयाण

रथयात्रा का दृश्य : राजेश मिश्रा


थयात्रा का शाब्दिक अर्थ है- रथ में बैठकर घूमने निकलना। समग्र भारत में यह उत्सव खूब उत्साह और उमंग से मनाया जाता है। भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण अथवा जगन्नाथ और श्रीराम की प्रतिमा को रथ में रखा जाता है। इस रथ को बहुत ही भक्तिभावपूर्वक श्रद्धालु खींचते हैं, और उसे लक्ष्मीजी, राधिकाजी अथवा सीताजी के मंदिर ले जाया जाता है। अंत में वह जगन्नाथ पुरी के गुंडिया मंदिर में ले जाया जाता है। जहाँ भगवान जगन्नाथ, बलराम और सुभाद्रा की काष्ठ की प्रतिमाएँ बनाई जाती हैं।

रथयात्रा असाढ़ सुद द्वितीया के दिन शुरू होती है और आठ दिनों तक चलती है। यह भारत के चार बड़े धामों में से एक है। इस जगन्नाथपुरी में यह उत्सव सबसे अधिक धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन भगवान जगन्नाथ अपने भाई बलराम और बहन सुभाद्रा के साथ तीन अलग-अलग रथों पर पुरी के मार्गों पर नगरयात्रा करने निकलते हैं। इस अवसर पर पूरे विश्व से एकत्र हुए हजारों यात्रियों द्वारा इस रथ को खींचा जाता है।

पुरी के इस उत्सव की सबसे महत्त्वपूर्ण विशेषता यह है कि इसे सभी जातियों के लोग रथ खींचने का अधिकार रखते हैं। पूजा और अन्य धार्मिक विधियाँ संपन्न होने के बाद सबेरे यह रथ धीरे-धीरे आगे बढ़ता है। पुरी के राजा गजपति सोने के झाड़ू से मार्ग साफ करते हैं। रथ को विविध रंगों के कपड़ों से सजाया जाता है और उनके अलग-अलग नाम रखे जाते हैं। भगवान जगन्नाथ के रथ का ‘नंदिघोष’, बलराम के रथ का ‘तालध्वज’ तथा सुभाद्राजी के रथ का ‘दर्पदलन’ नाम रखा जाता है। नंदिघोष का रंग लाल और पीला, तालध्वज का रंग लाल और हरा तथा दर्पदलन का रंग लाल और नीला रखा जाता है। पुरी में देवी सुभाद्रा की पूजा होने पर भी उन्हें हिंदू पुराणों में देवी नहीं कहा गया है। मात्र महाभारत में सुभाद्रा भगवान श्रीकृष्ण और बलराम की प्रिय बहन होने का उल्लेख किया गया है।
जगन्नाथ_बलभद्र_सुभद्रा

पुरी की ये तीनों प्रतिमाएँ भारत के सभी देवी – देवताओं की तरह नहीं होतीं। वे आदिवासी मुखाकृति के साथ अधिक साम्यता रखती हैं। पुरी का मुख्य मंदिर बारहवीं सदी में राजा अनंतवर्मन के शासनकाल के दौरान बनाया गया है। उसके बाद जगन्नाथजी के 120 मंदिर बनाए गए हैं। रथयात्रा शुरू होने से पहले सभी रथों को उचित ढंग से आयोजित किया जाता है। सर्व प्रथम बड़े भाई बलराम का 44 फुट ऊँचा रथ, उसके बाद देवी सुभाद्रा का 43 फुट ऊँचा रथ और अंत में 45 फुट ऊँचा श्री जगन्नाथजी का रथ सुबह से नगरयात्रा पर निकलकर पूरे दिन शहर के मार्गों पर घूमता रहता है और गडिया मंदिर की तरफ धीमी गति से आगे बढ़ता रहता है। और शाम को मंदिर में रथ का आगमन होता है।

ये तीनों आठ दिनों तक आराम करते हैं और नौवें दिन सुबह पूजा विधि करने के बाद वे वापस मंदिर में आते हैं। रथयात्रा के पहले दिन सभी रथों को मुख मार्ग की तरफ उचित क्रम में संयोजित किया जाता है। रथ वापस लौटने की यात्रा को उड़िया भाषा में ‘बहुदा यात्रा’ कहा जाता है, जो सुबह शुरू होकर जगन्नाथ मंदिर के सामने पूरी होती है। श्रीकृष्ण, बलराम और सुभाद्रा तीनों को उनके रथ में स्थापित किया जाता है और एकादशी तक उनकी पूजा की जाती है। उसके बाद पुनः उन्हें अपने-अपने स्थान पर मंदिर में बिराजमान किया जाता है।

पुरी के जगन्नाथ मंदिर की एक विशेषता यह है कि मंदिर के बाहर स्थित रसोई में 25000 भक्त प्रसाद ग्रहण करते हैं। भगवान को नित्य पकाए हुए भोजन का भोग लगाया जाता है। परंतु रथयात्रा के दिन एक लाख चौदह हजार लोग रसोई कार्यक्रम में तथा अन्य व्यवस्था में लगे होते हैं। जबकि 6000 पुजारी पूजाविधि में कार्यरत होते हैं। उड़ीसा में दस दिनों तक चलनेवाले एक राष्ट्रीय उत्सव में भाग लेने के लिए दुनिया के कोने-कोने से लोग उत्साहपूर्वक उमड़ पड़ते हैं। एक महत्त्वपूर्ण बात यह है कि रसोई में ब्राह्मण एक ही थाली में अन्य जाति के लोगों के साथ भोजन करते हैं, यहाँ जात-पाँत का कोई भेदभाव नहीं रखा जाता। श्रीक्षेत्र पुरी में कोई जातिवाद नहीं है। सभी भगवान जगन्नाथ की संतानें हैं और उनकी नजर में सभी एक समान हैं।

प्रतिवर्ष तीनों रथ लकड़ी से बनाए जाते हैं, जिसमें लोहे का बिलकुल उपयोग नहीं किया जाता। बसंत पंचमी के दिन लकड़ी एकत्र की जाती है और तीज के दिन रथ बनाना शुरू होता है। रथ यात्रा के थोड़े दिन पहले ही उसका निर्माण कार्य पूरा होता है।

जगन्नाथ मंदिर कला और शिल्प स्थापत्य का अद्वितीय नमूना है। 214 फुट ऊँचा यह मंदिर भुनेश्वर के शिव मंदिर या लिंगराज मंदिर जैसा लगता है।

यहाँ एक बात का उल्लेख करना आवश्यक है कि प्रतिवर्ष नया रथ बनता है, परंतु भगवान की प्रतिमाएँ वही रहती हैं। परंतु 8 से 19 वर्ष में असाढ़ अधिक मास आने पर तीनों मूर्तियाँ नई बनाई जाती हैं। इस प्रसंग को ‘नवकलेवर’ अर्थात् ‘नया शरीर’ कहा जाता है। तब पुरानी प्रतिमाओं को मंदिर के अंदर स्थित कोयली वैकुंठ नामक स्थान में जमीन में गाड़ दी जाती है।

इस वर्ष रथयात्रा 21 जून 2012 को शुरू होगी और 29 जून 2012 को संपन्न होगी। इस समयावधि को शुभ कार्यों के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    4 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook