आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

18 अक्तूबर 2012

दशहरा पर्व पर श्रीराम की आराधना करें


लोकाभिरामं रणरंगधीरं, राजीव नेत्रं रघुवंशनाथम्।
कारुण्यरूपं करुणाकरं तं, श्रीरामचद्रं शरणं प्रपद्ये।


रावण एवं अन्य राक्षसों से त्रस्त होकर देव‍तागण भगवान विष्णु से रावण-वध के लिए प्रार्थना करते हैं। तब भगवान विष्णु लोकहित के लिए, लोक कल्याण के लिए, असत्य पर सत्य की विजय के लिए, पृथ्वी के उद्धार के लिए एवं अत्याचार के नाश के लिए राजा दशरथ के यहां पुत्र रत्न के रूप में उत्पन्न होते हैं। यही राम असत्य पर सत्य की विजय के रूप में रावण का वध करते हैं।

ऐसे भगवान श्रीराम को हम प्रणाम करते हैं। जिन्होंने देवताओं की प्रार्थना सुनकर रावण का युद्ध में संहार किया। भगवान राम ने दशहरे के साथ यह संदेश जोड़ा कि शत्रुता व्यक्ति से नहीं उसके बुरे कर्म से होनी चाहिए। इस दिन श्रीराम प्रभु के चरित्र से नम्रता, प्रेम एवं उदारता का ही संदेश हम अपने ह्रदय में बसा सकते हैं। स्वयं श्रीराम ने रावण के युद्ध के बाद उस परिवार से शत्रुता त्याग कर अपनी उदारता, विनम्रता एवं प्रेम का संदेश दिया।

जाति-‍पाति धनु धर्म बड़ाई |  प्रिय परिवार सदन सुखदाई।।
सब ‍तजि तुम्हहि रहई उर लाई। तेहि के ह्रदय रहहु रघुराई।।


अर्थात् जाति-पाति, धर्म, धन, व प्रिय परिवार सबको छोड़ कर जो केवल प्रभु को अपने ह्रदय में धारण किए रहता है उसका कल्याण होता है। हे प्रभु राम! आप सबके ह्रदय में निवास करें।

प्रभु भक्ति में ऊंच-नीच, अमीर-गरीब का भेदभाव नहीं किया जाता है। स्वयं राम शबरी के यहां बेर खाने जाते हैं, तो शबरी से कहते हैं :

कह रघुपति सुनि भामिनी बाता
मानऊं एक भगति कर नाता।
जाति-‍पाति-कुल धर्म बड़ाई।
धन बल परिजन गुन चतुराई।।
भगति हीन नर सोहई कैसा।
बिनु जल वारिद देखिय जैसा।।


प्रभु राम कहते है- देवी! मेरी बात सुनो। मैं तो केवल एक भक्ति का नाता मानता हूं। जाति-पाति, कुल, धर्म, बल, कुटुंब, गुण और चतुराई इन सबके होते हुए भी भक्ति से रहित मनुष्य वैसा ही लगता है जैसा जल से रहित बादल।

इसलिए प्रभु की भक्ति किसी भी प्रकार के बंधन वाली नहीं है। प्रभु को पूर्ण मन से सुमिरन करें। वह ह्रदय में निवास करेंगे। दशहरे के दिन भगवान श्रीराम से निम्नलिखित उक्तियों से प्रार्थना करनी चाहिए।

करउ सो मम उर धाम।
अर्थात्- प्रभु मेरे ह्रदय में निवास करें।

मम ह्रदयं करहु निकेत।
अर्थात्- प्रभु मेरे ह्रदय में अपना घर बना लें।

ह्रदि बसि राम काम मद गंजय।

अर्थात्- हे प्रभु राम! आम हमारे ह्रदय में बस कर काम-क्रोध और अहंकार को नष्ट कर दीजिए।

ऐसी प्रार्थना कर प्रभु के भक्ति में लीन होकर ह्रदय रूपी राम को जगा कर अंदर के अहंकार, पाप, क्रोध, मद वाले रावण का दहन करें एवं श्रीराम को प्रणाम करें। भक्तप्रिय प्रभु नारायण-दशरथ पुत्र, सभी मनोरथ पूर्ण करेंगे।

राम नाम उर मैं गहिओ जा कै राम नहीं कोई।।
जिंह सिमरन संकट मिटै दरसु तुम्हारे होई।।


जिनके सुंदर नाम को ह्रदय में (ग्रहण) बसा लेने मात्र से सारे काम पूर्ण हो जाते है। जिनके समान कोई दूजा नहीं है। जिनके स्मरण मात्र से सारे संकट मिट जाते हैं। ऐसे प्रभु श्रीराम को कोटि-कोटि प्रणाम है।

यह प्रार्थना करने मात्र से दसों इंद्रियों पर विजय प्राप्त की जा सकती है और दशहरा सार्थक होगा।

श्री राम सा मर्यादित बनूँ, क्रोध और अंहकार पर विजय करूँ!
श्री दुर्गा विराजे मेरे ह्रदय में, ताकि मैं अभय बनूँ!
श्री हनुमान सी भक्ति हो मेरी, श्री शिव के जैसा साक्षी भाव वरु!
विजयादशमी के अवसर पर माता भगवती और भगवान् श्रीराम के चरणों में निज जीवन समर्पित करूँ!राजेश मिश्रा

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    8 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook