आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

16 अक्तूबर 2012

Navratri Hindi SMS and Shubhkamna Sandesh



Rajesh Mishra 

ChaNdaN Ki Khushbu , Resham Ka Haar, SawaN ki SugaNdh, Barish Ni Fuhar, Radha Ki Ummide , KaNhaiya Ka Pyar.,Mubarak Ho Apko NAVARATRI Ka Tyohar., HAPPY NAVARATRI.! >>Rajesh Mishra<<

****"*"****
N- Nav, A- Arti,  V- Vandna, R- Roshni, A- Aradhana, T- Tez, R- Rkhne Wali, A- AMBEY MAAHum Sabhi ki Manokamanaye Puri Kare ! 
** HAPPY***NAVRATRA***JAI MATA DI**

>>Rajesh Mishra<<
****"*"****
Lakshmi ka Hath ho,Saraswati ka Sath ho,Ganesh ka niwas ho, aur maa durga ke ashirwad se Aapke jeevan mai prakash hi prakash ho….‘HAPPY NAVRATRI’ : Rajesh Mishra
>>Rajesh Mishra<<
****"*"****

Bajre ki roti, aam ka achar, suraj ki kirne, khushiyo ki bahar,
chanda ki chandni, apano ka pyar, 
mubarak ho aapko  ‘NAVRATRI’  ka tyohar. >>Rajesh Mishra<<
****"*"****

Maa Durge, Maa Ambe, Maa Jagdambe, Maa Bhawani,Maa Sheetla, Maa Vaishnao, Maa Chandi,Mata Rani meri aur apki manokamna puri karey..JAI MATA DI. >>Rajesh Mishra<<
****"*"****
Long live the tradition of hindu culture and as the generations have passed by hindu culture is getting stronger and stronger lets keep it up. Best Wishes for Navratri: >>Rajesh Mishra<<
****"*"****

Fortunate is the one who has learned to Admire, but not to envy. 
Good Wishes for a joyous Navratri and a Happy New Year with a plenty of Peace and Prosperity. Rajesh Mishra
****"*"****

May This Navratri be as bright as ever. 
May this Navratri bring joy, health and wealth to you. 
May the festival of lights brighten up you and your near and dear ones lives. Continue Reading…Rajesh Mishra 

Aapi shako to aapni dosti magu chu, dil thi dil no sahkar magu chu,
fikar na karo dosti per jaan lutavi dais, rokdo vyavhar che kya,
udhar mangu chu…
HAPPY NAVRATRI! >>Rajesh Mishra<<
****"*"****

Maa Durga Humein SarvShreshtha Banne ka Saahas-Ichha-Dhairya Pradan Kare.Unki Aseem Kripa Hum Par Bani Rahe! 
Apko Aur Apke Parivar Ko NAVRATRI KI SHUBHKAMNAYE! Rajesh Mishra
****"*"****

Maa Durge, Maa Ambe, Maa Jagdambe, Maa Bhawani, Maa Sheetla, Maa Vaishnao, Maa Chandi, Mata Rani meri aur apki manokamna puri karey..
JAI MATA DI. Rajesh Mishra
****"*"****
Bajre ki roti, aam ka achar, suraj ki kirne, khushiyo ki bahar,chanda ki chandni, apano ka pyar, 

mubarak ho aapko  “NAVRATRI”  ka tyohar. >>Rajesh Mishra<<
****"*"****
Aapi shako to aapni dosti magu chu, dil thi dil no sahkar magu chu,
fikar na karo dosti per jaan lutavi dais, 
rokdo vyavhar che kya, udhar mangu chu…
HAPPY NAVRATRI! : Rajesh Mishra

****"*"****
Lakshmi ka Hath ho,Saraswati ka Sath ho,Ganesh ka niwas ho,
aur maa durga ke  ashirwad se Aapke jeevan mai prakash hi prakash ho….“HAPPY NAVRATRI”  Rajesh Mishra


****"*"****
Rajesh Mishra With Family- (Sushma, Shreya, Shalu and
Shreyansh Mishra) Vaishnon Devi Tour 2011

ChaNdaN Ki Khushbu, Resham Ka Haar, SawaN ki SugaNdh, Barish Ni Fuhar,Radha Ki Ummide, KaNhaiya Ka Pyar., Mubarak Ho Apko NAVARATRI Ka Tyohar., 
HAPPY NAVARATRI....Rajesh Mishra

****"*"****
LOVE & FRIENDSHIP ARE SILENT GIFT OF NATURE:
MORE OLD… MORE STRONG… 
MORE CARE… MORE RESPECT..
LESS WORDS… MORE UNDERSTANDING. …
LESS MEETINGS MORE FEELINGS…>>Rajesh Mishra<<
****"*"****
If i cud reach up and hold a star,  The entire evening sky, 4 every time u made me smile, Wud b in the palm of my hand.

>>Rajesh Mishra<<
****"*"****

I have the “I”, I have the “L”, I have the “O”, I have the “V”,I have the “E”,…  So pls can I have “U”? >>Rajesh Mishra<<
****"*"****
If u touch n feel its desire. If u touch n don’t feel its ignorance,But u don’t touch n still feels its love. >>Rajesh Mishra<<
****"*"****
Maa Durge, Maa Ambe, Maa Jagdambe, Maa Bhawani, 
Maa Sheetla, Maa Vaishnao, Maa Chandi,
Mata Rani meri aur apki manokamna puri karey..
JAI MATA DI : Rajesh Mishra

****"*"****
Jyoti me prakash, pulkit hai dharti, 
Jagmagaye akash, diyon ki katar kahe,Apke ghardwar viraje khushiyan apar 
Wish you Happy Navratra. >>Rajesh Mishra<<
****"*"****

Pyar ka tarana uphar Ho; 
Khushiyo ka nazara beshumar Ho;Na rahe koi gum ka Ehsas ; 
Aisha NAVRATRI UTSAV Is saal ho……!
Happy Navratri!  >>Rajesh Mishra<<
****"*"****

Navaratri


Pyar ka tarana uphar ho, Khushiyo ka nazrana beshumar ho 
Na rahe koi gam ka ehsas, Aisa navratra utsav is saal ho! 
Happy Navratra! : Rajesh Mishra

****** 
Maa ki jyoti se prem milta hai, 

Sabke dilo ko marm milta hai 
Jo bhi jata hai maa ke dwar, 
Kuch na kuch jarur milta hai. 
Shubh Navratri : Rajesh Mishra
****** 

Aapi shako to aapni dosti magu chu, 
dil thi dil no sahkar magu chu,

fikar na karo dosti par jaan lutavi dais, 
rokdo vyavhar che kya, udhar mangu chu… 
Happy Navratri! : Rajesh Mishra

*******
Ramji ki mahima, Sita maa ka dhairya, 

Lakshmana ji ka tej aur, Bharat ji ka tyaag, 
hum sabko jeevan ki seekh deta rahey. 
Happy Chaitra Navratri. : Rajesh Mishra

*******
Maa durga humein sarvshreshtha banne ka, 
Saahas-ichha-dhairya pradan kare. 
Unki aseem kripa hum par bani rahe! 
Apko aur apke parivar ko, Navratri ki shubhkamnaye.. 
Rajesh Mishra

****** 
Laxmi ka hath ho, Saraswati ka sath ho, 
Ganesh ka niwas ho, Aur maa durga ke aashirwad se, 
Apke jeevan mai prakash hi prakash ho! 
‘Happy Navratri’ : Rajesh Mishra
*********


May This Navratri be as bright as ever. May this Navratri bring joy,
health and wealth to you.
May the festival of lights brighten up you and
your near and dear ones lives. Happy Navratri
: Rajesh Mishra 

*********


May Maa Durga empower you & your family with her
Nine Swaroopa of Name, Fame, Health, Wealth, Happiness, Humanity, Education, Bhakti & Shakti.
HAPPY NAVRATRI
: Rajesh Mishra
*********


Memories of moments celebrated together
Moments that have been attached in my heart forever
Make me miss you even more this Navratri.
Hope this Navratri brings in Good Fortune
And Long lasting happiness for you!
Happy Navratri 
: Rajesh Mishra 

*********

This Navratri, May You Be Blessed With Good Fortune
As Long as Ganeshji’s Trunk,
Wealth and Prosperity As Big As His Stomach,
Happiness as Sweet as his Ladoos,
And May Your Trouble Be As Small as His Mouse.
Happy Navratri…

Fortunate is the one who has learned to Admire, but not to envy.
Good Wishes for a joyous Navratri
And a Happy New Year with a plenty of Peace and Prosperity.
SHUBH NAVRATRI.

Navratri messages in Hindi:

Lal rang ki chunri se saja MAA ka darbar
Harshit hua me, Pulkit hua sansar
Nanhe-2 kadmo se MAA aye apke dwar
Mubarak ho NAVRATRI ka tyohar!
Happy Navratri

Durga Maa ki jyoti se noor milta hai,
sabke dilo ko shurur milta hai,
jo bhi jata hai MAA ke dawar , kuch na kuch jarur milta hai.
SHUBH NAVRATRI.

Navratri sms greetings
N-Nav chetna
A-Akhand jyoti
V-Vighna nashak
R-Ratjageshwari
A-Anand dayi
T-Trikal darshi
R-Rakshan karti
A-Anandmoyi Maa
Nav Durga bless u.

Durga sloka SMS
OM SARVA MANGAL MANGALAY SHIVE SARWARTH SWADHIKE,
SHARANYE TARYAMBAKE GOURI NARAYANI NAMOSTUTE!!!




JAI MATA DI!.....Happy Navratri : Rajesh Mishra

Next...............


Sone ka rath, chandi ki palki
Baith kar jisme hai Maa Laxmi aayi
Dene aapko or aapke pariwar ko
Dashahara ki bhadhai.
Happy Vijyadashmi!!


jitne bhi hai jaha pe, unhi ke lal hai sare,
unke hi isaro pe chalte, ye chand aur tare.
pal bhar ke liye hi sahi maa ko yaad kijiye,
hogi puri tamanna jara fariyad kijiye.
Subh Navratri

Ye navratri aapke jeewan men sukh, samridhi, pragati k dwar khole.
Maa ki mamtamayi chhav men aap hamesa aanand se rahe.
Navratri ki badhai

Navratri ke absar par hardik subhkamnayen..
May Maa Durga illuminate your life with countless
blessings of happiness and good fortune.

Pyar ka tarana uphaar ho, Khushiyon ka nazrana beshumar ho,
Na rahe koi gham ka ehsaas, Aisa Navratra Utsav is saal ho
Subh Navratra

Aapi shako to aapni dosti magu chu,
dil thi dil no sahkar magu chu,
fikar na karo dosti per jaan lutavi dais,
rokdo vyavhar che kya, udhar mangu chu…
HAPPY NAVRATRI!

Maa durga apko apni 9 bhujao se:
1. bal
2. buddhi
3. aishwarya
4. sukh
5. swasthya
6. daulat
7. abhijeet
8. nirbhikta
9. sampannta
pradan kare
JAI MATA DI.

May Maa Durga Durgatinashini
bring joy to youand your loved ones
++ Happy Durga Puja to you ++.

Maa ki jyoti se prem milta hai,
sabke dilo ko marm milta hai,
jo bhi jata hai MAA ke dwar,
kuch na kuch jarur milta hai. ”
SHUBH NAVRATRI.

May Maa Durga empower u & ur family
with her Nine Swaroopa of Name, Fame,
Health, Wealth, Happiness, Humanity,
Education, Bhakti & Shakti.
*HAPPY NAVRATRAS*

Lakshmi ka Hath ho,
Saraswati ka Sath ho,
Ganesh ka niwas ho,
aur maa durga ke
ashirwad se Aapke jeevan mai prakash hi prakash ho….
‘HAPPY NAVRATRI’

PYAR KA TARANA UPHAR HO,
KHUSHIYO KA NAZRANA BESHUMAR HO,
NA RAHE KOI GAM KA
EHSAS; AISA Navratra UTSAV IS saal ho, , . .
HAPPY NAVRATRA.

kisi ko kisi ki judai mar gai kisi ko jindgi ki tanhai mar gai ravan bhi koi bura aadmi nahi tha lekin use ram ki lugai margai........happay dasera..

Lal Rang Ki Chunri Se Sja MAA Ka Darbaar,
Harshit Hua Man Pulkit Hua Sansar,
Pyare-2 Kdmo Se MAA Aye Apke Dwar,
Mangalmay Ho apko Nvratro K tyohar.
Jai Mata Di:)

माँ दुर्गे
माँ अम्बे
माँ जगदम्बे
माँ भवानी
माँ शीतला
माँ वैष्णो
माँ चंडी
माँ रानी हम सबकी मनोकामना पूरी करे....
जय माता दी ....
शुभ नवरात्री ....

PYAR KA TARANA UPHAR HO,KHUSHIYO KA NAZRANA BESHUMAR HO,NA RAHE KOI GAM KA EHSAS; AISA Navratra UTSAV IS saal ho, , . . HAPPY NAVRATRA.

Maa Durga se vinti hai ki apke jeevan main Matarani sukh, samridhi, dhan, yas, shanti, Vaibhav or Pariwar ka pyar Pardan karen. Happy Navratra

nav deep jale 
nav phool khile 
nit nayi bahar mile 
navratri ke iss pavan avsar par 
aapko maa durga ka ashirvad mile 
**HAPPY** *NAVRATRI*

Nav Kalpana...
Nav Jyotsana...
Nav Shakti...
Nav Aaradhana...
Nav Ratri K Paavan Parv par puri ho aapki har ManoKamnA 
**HAPPY** *NAVRATRI*
शुभ नवरात्रि की आपको ढेरों शुभकामनाएं।
माता रानी आपके जीवन में सुख, समृद्धि, धन, यश प्रदान करें।
और आपके जीवन को सुंदर और सुखमय बनाए।

A B C D new meaning A=Ambe
B=Bhawani
C=Chamunda
D=Durga
E=Ekrupi
F=Farsadharni
G=Gayatri
H=Hinglaaj
I=Indrani
J=Jagdamba
K=Kali
L=Laxmi
M=Mahamaya
N=Narayani
O=Omkarini
P=Padma
Q=Qatyayani
R=Ratnapriya
S=Shitla
T=Tripura Sundari
U=Uma
V=Vaishnavi
W=Warahi
Y=Yati
Z=Zyvana
ABCD padhte jao..JAY MATA DI kahte jao...!!


Lakshmi Ka Hath Ho,
Saraswati Ka Sath Ho,
Ganesh Ka Niwas Ho,
Aur Maa Durga Ke Aashirwaad Se Aapke Jeevan Mai Prakash Hi Prakash Ho.
Happy Navratri!

May the nine nights of Navratri bring grace, joy and fun,
Let’s worship Goddess Durga and the prayers be done.
Time to perform Dandiya and play around in circles,
And stage a mock-fight with Mahishasura which Durga won.
Wish you a very Happy and Blessed Navratri!

N = Nav Chetna
A = Akhand Jyoti
V = Vighna Nashak
R = Ratjageshwari
A = Anand Dayi
T = Trikal Darshi
R = Rakhan Karti
A = Anand Mayi Maa
May Nav Durga bless you always.
Wish you and your family a very Happy Navratri!

Nav Deep Jale;
Nav Phool Khile;
Nit Nayi Bahaar Mile;
Navratri Ke Iss Paavan Avsar Par Aapko Mata Rani Ka Aashirvad Mile.
Happy Navratri!

Let’s revere Amba Maata…. As she returns to her earthly abode… Giving us cause for celebration, at home and abroad…. So light the brightest diyas……. Sing the sweetest sangeets Adorn yourselves in finery …. Prepare those sumptuous feasts……. Revel in the merrymaking……… Have a Glorious Navratri!

May Maa Durga bless you and your family with Her nine swaroops of Name, Fame, Health, Wealth, Happiness, Humanity, Education, Devotion and Empowerment!
Happy Navratri!

Nine Goddess Durga bless you and your family with Her nine NAVRATRI prasads:
1. Shanti
2. Shakti
3. Saiyam
4. Sanmaan
5. Saralta
6. Safalta
7. Samridhi
8. Sanskaar
9. Swaasthya
Happy Navratri!

Pyaar Ka Taraana Uphar Ho;
Khushiyo Ka Nazrana Beshumar Ho;
Na Rahe Koi Gam Ka Ehsaas;
Aisa Navratra Utsav Is Saal Ho.
Happy Navratri!

N-Nav Din Ki,
A-Aarti,
V-vandna,
R-Roshni
A-Aaradhana,
T-Tej,
R-Rakhne Waali,
A-Ambey Maa Aapki,
Manokamnaye Puri Kare.
Happy Navratri!

Feast and have fun
The dandiya raas has begun
Maa is blessing us through
A very Happy Navratri and Durga Puja to you!

India.com wishes you a very happy Navratri and Durga Puja! Do share with us any more interesting SMSes or Whatsapp, Facebook and other social media messages.



इस बार नवरात्रि पूजन करें राशि अनुसार


नौ नहीं आठ दिन की होगी नवरात्रि
बारह राशियों के लिए नवरात्रि पूज

शारदीय नवरात्रि का आरंभ- 16 अक्टूबर 2012 को हो रहा है। इस दिन से मां भगवती के नौ रूपों का पूजन-अर्चन आरंभ होगा। इस बार नवरात्रि नौ नहीं बल्कि आठ दिन की होगी। इस बार चतुर्थी व पंचमी एक साथ है या यूं कहें कि चतुर्थी तिथि का क्षय हो रहा है।

मां भगवति के नौ रूप इस प्रकार हैं- 1. शैलपुत्री 2. ब्रह्मचारिणी 3. चन्द्रघण्टा 4. कूष्माण्डा 5. स्कन्दमाता 6. कात्यायिनी 7. कालरात्रि 8. महागौरी 9. सिद्धिदात्री 

इन नौ रूपों का नौ दिन पूजन विधि-विधान से किया जाता है।

* इन नौ दिनों में मेष व वृश्चिक राशि व लग्न वाले लाल पुष्पों को अर्पित कर लाल चंदन की माला से मंत्रों का जाप करें। नैवेद्य में गुड़, लाल रंग की मिठाई चढ़ा सकते है। नवार्ण मंत्र इनके लिए लाभदायी रहेगा।

* वृषभ व तुला राशि व लग्न वाले सफेद चंदन या स्फटिक की माला से कोई भी दुर्गा जी का मंत्र जप कर नैवेद्य में सफेद बर्फी या मिश्री का भोग लगा सकते हैं। 

* मिथुन व कन्या राशि व लग्न वाले तुलसी की माला से जप कर गायत्री दुर्गा मंत्रों का जाप कर सकते हैं। नैवेद्य में खीर का भोग लगाएं। 

* कर्क राशि व लग्न वाले सफेद चंदन या स्फटिक की माला से जप कर नैवेद्य में दूध या दूध से बनी मिठाई का भोग लगाएं। 

* सिंह राशि व लग्न वाले गुलाबी रत्न से बनी माला का प्रयोग व नैवेद्य में कोई भी मिठाई अर्पण कर सकते हैं। 

* धनु व मीन राशि व लग्न वालों के लिए हल्दी की माला से बगुलामुखी या दुर्गा जी का कोई भी मंत्र से जप ध्यान कर लाभ पा सकते है। नैवेद्य हेतु पीली मिठाई व केले चढ़ाएं। 

* मकर व कुंभ राशि व लग्न वाले नीले पुष्प व नीलमणि की माला से जाप कर नैवेद्य में उड़द से बनी मिठाई या हलवा चढ़ाएं। 

वैसे देवी किसी चढ़ावा या किसी विशेष पूजन-अर्चन से ही प्रसन्न होंगी, ऐसी बात नहीं है, बल्कि शुद्ध चित्त-मन श्रद्धा-भक्ति से किए गए पूजन से देवी प्रसन्न होती हैं।

संजा : 16 दिन का आकर्षक-अनूठा पर्व

ऐतिहासिक पक्ष और महत्व

मानव मन की गहनतम अनुभूति की सौंदर्यात्मक अभिव्यक्ति जब किसी अनुकृति के रूप में परिणित होती है तो वह अनुकृति हमारी संस्कृति और लोककला के प्रतीक के रूप में पहचानी जाती है। मानव मन की संवेदनशीलता की गहराई को इन प्रतीकों के माध्यम से समझना बेहद सरल और सुखद होता है। 



कला की अभिव्यक्ति जब धर्म के माध्यम से की जाती है तब वह कृति पवित्र और पूजनीय हो जाती है। धर्म ने कला को गंभीरता दी है तो कला ने भी धर्म पर अपने सौंदर्य को न्यौछावर करने में कोई कसर बाकी नहीं रखी। धर्म का कलात्मक सौंदर्य और कला का धार्मिक स्वरूप पावन और गौरवशाली होता है। इसी खूबसूरत मिलन की देन है मालवा जनपद का एक मीठा व सौंधा सा पर्व संजा।

अपनी अनूठी व बेमिसाल लोक परंपरा व लोककला के कारण ही मालवा क्षेत्र की देश में एक विशिष्ट पहचान है, यहीं की गौरवमयी संस्कृति की सौम्य, सहज व सुखद अभिव्यक्ति का पर्व है - संजा!

संजा कुंवारी कन्याओं का अनुष्ठानिक व्रत है। राजस्थान, पंजाब, उत्तर प्रदेश व महाराष्ट्र आदि प्रदेशों में किंचित हेरफेर के साथ वही रूप परिलक्षित होता है, जो मालवा जनपद में विद्यमान है। आश्विन मास की प्रतिपदा से मालवा की कुंवारी कन्याएं स व्रत का शुभारंभ करती है जो संपूर्ण पितृपक्ष में सोलह दिन तक चलता है। सोलह की संख्‍या में यूं भी किशोरियों के लिए पूर्णता की द्योतक होती है। 

प्रतिदिन गोधूलि बेला में घर के बाहर दहलीज के ऊपर की दीवार पर या लकड़ी के साफ-स्वच्छ पटिए पर गोबर से पृष्ठभूमि लीपकर तैयार की जाती है, यह पृष्ठभूमि विशिष्ट आकार लिए होती है। चौकोर वर्गाकार आकृति के ऊपरी तथा दाएं-बाएं हिस्से में समरूप छोटे वर्ग रेखा के मध्य में बनाए जाते हैं। 

सूर्यास्त से पूर्व संजा तैयार कर ली जाती है एवं सूर्यास्त के बाद आरती की तैयारी की जाती है। इन दिनों गोबर, फूल, पत्तियां, पूजन सामग्री प्रसाद इत्यादि के साथ-साथ मंगल गीतों को गाने के लिए सखियां जुटाती मालव बालाओं को सहज ही देखा जा सकता है।

बरखा के विदा होते हुए ‍दिन और शरद के सुखदागमन के आहट देते दिन इस प्रकृति प्रधान पर्व संजा के श्रृंगार के लिए अ‍नगिनत रंगबिरंगे महकते प्रसाधन उपलब्ध करा देते हैं। विवाहपर्यन्त इस व्रत को पालन करने वाली मालवकन्याएं इस व्रत पर अपनी अटूट आस्था, असीम श्रद्धा और अगाध भक्ति के साथ स्वयं की सुप्त कलात्मक अनुभूतियों को संपूर्ण शिद्दत से अभिव्यक्त करती है। 

प्रतिपदा से आरंभ होकर अंतिम दिवस तक संजा विभिन्न मोहक आकृतियों को धारण करते हुए अपने पूर्ण निखार से पूरे वर्ष भर सहेज कर दीवार पर रखी जाती है। विवाहित कन्या ससुराल से लौटकर अगले वर्ष अपने हाथों से इसे निकालकर कतिपय अनुष्ठानों के साथ नदी में विसर्जित कर इस व्रत का उद्यापन करती है। 

संजा की संपूर्ण कथा को जाने बगैर महज उसकी आकर्षक आकृतियों और मनभावन गीतों पर ही चर्चा करना पर्याप्त नहीं होगा। कन्याओं के इस अनुष्ठानिक पर्व की परंपरा में संजा के ऐतिहासिक व्यक्तित्व और उसकी कारूणिक गाथा का आभास भी गुंफित है। 

संजा के ऐतिहासिक मूल्यों का निर्धारण प्रमाणों के अभाव में यथातथ्य खरा नहीं उतरता। सांजी, संजा, संइया और सांझी जैसे भिन्न-भिन्न प्रचलित नाम अपने शुद्ध रूप में संध्या शब्द के द्योतक हैं। पं. हजारी प्रसाद द्विवेदी का अन‍ुमान है कि कहीं सांझी का ब्रह्मा की कन्या संध्या से किसी तरह का संबंध तो नहीं है? 

कालकापुराण (विक्रम की दसवीं ग्यारहवीं शताब्दी) के अनुसार एक विपरीत किंवदंती उभरती है कि संध्या व ब्रह्मा के समागम से ही 40 भाव और 69 कलाएं उत्पन्न हुईं।

उदीरितोन्द्रियों घाता विक्षांचक्रे यदाथ्ताम्।
तदैवह्नूनपन्चाराद् भावा जाता शरीरत:।।
विव्योकाद्यास्थता हावाश्चतु: षष्टिकला स्थना:?
कन्दर्पशर विद्याया सन्धायाया अभवान्दिविजा:

किंतु भाव एवं कला की उत्पत्ति मात्र से एवं नाम साम्य के कारण यह अनुमान भ्रामक होगा अत: सांझी का संध्या से किसी तरह का संबंध प्रतीत नहीं होता। संजा कौन थी? इस प्रश्न के उत्तर किशोरावस्था से भिन्न-भिन्न मिलते रहे हैं। कभी यह कि माता पार्वती ने भगवान शिव को वर के रूप में प्राप्त करने के लिए खेल-खेल में इस व्रत को प्रतिष्ठापित किया था, तो कभी यह कि कुंवारी कन्याओं को सुयोग्य वर प्राप्त हो एवं तदुपरान्त उसका भविष्य मंगलमय व समृद्धिदायक हो इसलिए सांगानेर की आदर्श कन्या संजा की स्मृति में यह व्रत किया जाता है। 

संजा के सन्मुख गाए जाने वाले एक गीत से उसके इसी प्रकार के ऐतिहासिक पक्ष पर प्रकाश पड़ता है।

जीरो लो भई जीरो लो
जीरो लइने संजा बई के दो
संजा को पीयर सांगानेर
परण् पधार्या गढ़ अजमेर
राणा जी की चाकरी
कल्याण जी को देस
छोड़ो म्हारी चाकरी
पधारो व्हांका देस।

उक्त पंक्तियों से यह निष्कर्ष निकलता है कि सांझी का मायका सांगानेर नामक स्थान में है और विवाह अजमेर में हुआ है। सांगानेर कल्याण जी का देश है, जहां राणाजी की चाकरी होती है इसलिए विवाह के बाद कल्याण जी इसे अपनी सेवा से मुक्ति प्रदान कर ससुराल जाने का आग्रह करते हैं।

अन्य गीतों में प्रयुक्त प्रवृत्तियां मध्यकालीन सामंती वातावरण की पोषक है। बाल सुलभ चेष्टाओं द्वारा अन्य असंगत अतार्किक बातों को छोड़कर उन गीतों में देखें तो कई अन्य बातें और भी स्पष्ट हो जाती हैं। यथा-संजा का विवाह बचपन में हुआ है और वह सास के सम्मानजनक पद से अनभिज्ञ है अत: सखियों द्वारा खिझाने पर वह जवाब देती है - 

ऐसी दुंगा दारी के चमचा की
काम करउंगा धमका से
मैं बैठूंगा गादी पे
उके बैठऊंगा खूंटी पे।

अत: यह भी स्पष्ट होता है कि संजा प्रतिष्ठित परिवार की पुत्री थी, जहां उसका पालन पोषण अत्यंत ऐश्वर्य और वैभव के मध्य हुआ होगा। 

संजा तू बड़ा बाप की बेटी
तू खाए खाजा रोटी
तू पेने मानक मोती
पठानी चाल चाले
गुजराती बोली बोले...।

संजा के अंतिम दिन बनाए जाने वाले किलाकोट में राजपूत संस्कृति का पूरा प्रभाव है। मध्यकाल में किलाकोट के भीतर ही पूरा नगर बसा होता था, इसलिए जो किलाकोट बनाए जाते हैं। उनके पूर्ण प्रबंध का संकेत आकृतियों में होता है। किलाकोट में मीरा की गाड़ी बनाना आवश्यक समझा जाता है, इससे जिज्ञासा होती है कि कही संजा व्रत का संबंध मीरा के द्वारका गमन से तो नहीं?

संभवत: सांझी मालवा, ब्रज, राजस्थान आदि में घुमन्तू जातियों के आगमन द्वारा प्रचलित हुई और उसका मूल उद्‍गम अधिक संभव है अजमेर-सांगानेर से ही हुआ हो। यही लोकधारणाओं पर आधारित उसका ऐतिहासिक पक्ष है। किंतु उसके प्रचलन संबंधी कई प्रश्न आज भी अनुत्तरित हैं। प्रथम तो यही कि संजा का पितृपक्ष से क्या संबंध है? संजा का विवाह प्रसंग, इसकी सौभाग्यश्री एवं ससुराल पक्ष का उल्लेख सुंदर जीवन का द्योतक है लेकिन फिर श्राद्धपक्ष में उसे मनाए जाने की परंपरा क्या अर्थ रखती है?

विवाहिताएं अपने विवाह के प्रथम वर्ष के उपरांत इसे क्यों नहीं बनाती? श्री जोगेंद्र सहाय सक्सेना का अनुमान है कि इसका संबंध अनिष्ट से मालूम होता है और वह अनिष्ट संजा के विवाह होने के एक वर्ष के अंदर ही घटित हुआ हो। किंतु संजा के मंगल गीतों की आकर्षक भावाभिव्यंजना, रस स्निग्धता व सौभाग्य यही सिद्ध करते हैं कि संजा अपने समय की आदर्श, संस्कारशील सुकन्या रही होगी।

गीतों में मुखरित कल्याण कामना, माता-पिता, सास-श्वसुर, भाई-भावज, ननद, देवर-देवरानी और अंतत: ससुराल में ठाट-बाट से गमन आदि सभी मंगलसूचक हैं। संभव है कि अपने माता-पिता की लाड़ली होने के कारण उसके ससुराल चले जाने के बाद उन्होंने अपनी राज्य सीमा में संजा की स्मृति में कुंवारी कन्याओं का कोई त्योहार आरंभ किया हो, जिसने आगे चलकर अनुष्ठानिक महत्व प्राप्त कर लिया हो।

सांझी का ऐतिहासिक पक्ष ठोस प्रमाणों के अभाव में केवल लोकगीतों पर आधारित मात्र है फिर भी इतना स्पष्ट है कि इसमें बालिकाओं के भावी जीवन के लिए मंगलकामना और समृद्धि का संदेश है। संजा इसलिए सौभाग्य का आदर्श प्रतीक ही नहीं, उनके लिए सजीव व्यक्तित्व सदृश्य है। संजा के गीतों का मूल स्वभाव (बालवृत्तियों से युक्त होकर भी) आदर्श के प्रति श्रद्धापूरित है।

निष्कर्षत: यह कहा जा सकता है कि प्रतिपदा से प्रारंभ होने वाले इस सुमधुर, सौम्य, सुरीले पर्व की गरिमा और उत्कृष्टता आधुनिकता के कांटों से बचकर आज भी अपनी महक, गमक और चमक को यथावत रखे हुए हैं। चाहे शहरी संस्कृति की ' कॉन्वेन्टेड' कन्या के लिए यह सब कुछ 'ऑड' हो लेकिन मालवा संस्कृति में पली-बढ़ी कन्या के लिए यह पर्व और विवाहोपरांत इस पर्व की इंद्रधनुषी स्मृतियां हमेशा ताजगी और मिठास का अहसास कराती है, कराती रहेंगी।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    6 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook