आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार (Year's 2016festival) नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

06 फ़रवरी 2013

गुप्त नवरात्र और देवी उपासना



धार्मिक ग्रंथों के अनुसार साल में चार नवरात्र होते हैं। साल के प्रथम मास चैत्र शुक्ल में प्रथम नवरात्र होते हैं, जो ‘वासंती नवरात्र’ कहलाते हैं। आषाढ़ शुक्ल में गुप्त नवरात्र होते हैं। आश्विन मास में प्रमुख नवरात्र होते हैं, जो शारदीय नवरात्र कहलाते हैं।


माघ शुक्ल में फिर गुप्त नवरात्र आते हैं। गुप्त नवरात्र मनाने और इनकी साधना का विधान देवी भागवत व अन्य धार्मिक ग्रंथों में मिलता है। श्रृंग ऋषि ने गुप्त नवरात्रों के महत्व को बतलाते हुए कहा है कि जिस प्रकार वासंतिक नवरात्र में विष्णु पूजा की और शारदीय नवरात्र में देवी शक्ति की नौ देवियों की पूजा की प्रधानता रहती है, उसी तरह गुप्त नवरात्र दस महाविद्याओं के होते हैं, यदि कोई इन महाविद्याओं के रूप में शक्ति की उपासना करे, तो जीवन धन-धान्य, राज्य सत्ता, ऐश्वर्य से भर जाता है।

गुप्त नवरात्रों की प्रमुख देवी के स्वरूप का नाम सर्वेश्वर्यकारिणी देवी है। पूजा पाठ न कर सकने वाला भी यदि इन दिनों श्रद्धा के साथ इन दस महाविद्याओं में से किसी की भी पूजा-साधना करके घर में उनका यंत्र स्थापित करता है, तो उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। जन्म कुंडली में कोई भी प्रतिकूल ग्रह नीच या शत्रुक्षेत्रीय प्रभाव में होकर अनिष्टकारक हों, उनकी दशा अन्तर्दशा में अनिष्ट प्रभाव पड़ रहा हो या अनिष्ट की आशंका हो तो नवरात्र में देवी की पूजा आराधना से सभी नौ ग्रह और बारह राशियों के प्रतिकूल प्रभाव शांत होकर घर में सुख, समृद्धि और शांति लाते हैं।

देवी की दस महाविद्याएं
ये दस देवियां काली, तारा, त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी, छिन्नमस्ता, त्रिपुर भैरवी, धूमावती, बगलामुखी, मातंगी और कमला हैं। इनकी प्रवृति के अनुसार इन्हें तीन समूह में बांटा गया है। 1. सौम्य कोटि-त्रिपुर सुंदरी, भुवनेश्वरी, मातंगी, और कमला। 2. उग्र कोटि- काली, छिन्नमस्ता, धूमावती और बगलामुखी। 3. सौम्य-उग्र कोटि- तारा और त्रिपुर भैरवी। ये महाविद्याएं तंत्र की प्रमुख देवी हैं। इनकी पूजा और जप आदि शुद्ध आचरण के साथ करने चाहिए। तंत्र और शाक्त मत का तो यह सबसे महत्वपूर्ण पर्व माना जाता है। वैष्णो, पारम्बा देवी, कामाख्या देवी और हिन्गुलाज देवी का यही मुख्य पर्व है। गुप्त नवरात्र में की गई मंत्र साधना निष्फल नहीं जाती।

जन्म कुंडली में यदि नवग्रहों में से कोई भी ग्रह अनिष्ट फल दे रहा हो तो गुप्त नवरात्र में शक्ति उपासना करने से खास लाभ मिलता है। सूर्य ग्रह के कमजोर होने पर स्वास्थ्य लाभ के लिए शैल पुत्री की उपासना से लाभ मिलता है। चंद्रमा के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए कूष्मांडा देवी की आराधना करें। मंगल ग्रह के लिए स्कंदमाता, बुध की शांति और अर्थव्यवस्था में वृद्धि के लिए कात्यायनी देवी, गुरु के लिए महागौरी, शुक्र के शुभत्व के लिए सिद्धिदात्री और शनि के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए कालरात्रि की उपासना सार्थक रहती है।
राहु की शुभता के लिए ब्रह्मचारिणी की उपासना और केतु के विपरीत प्रभाव को दूर करने के लिए चंद्रघंटा देवी की साधना करनी चाहिए।

जब किसी की जन्म पत्रिका उपलब्ध नहीं हो या फिर जन्म समय की पुख्ता जानकारी न हो और जीवन में लगातार परेशानियां आ रही हों, जैसे बार-बार दुर्घटनाएं होना, मानसिक परेशानी, किसी भी काम में बार-बार विफल होना, संतान के विवाह में विलम्ब या अन्य कष्ट होना, पूजा पाठ में मन नहीं लगना, व्यापार में नुक्सान, रोजगार की समस्या, भय, शारीरिक व्याधि, दाम्पत्य जीवन में क्लेश आदि समस्याओं के समाधान के लिए गुप्त नवरात्र में देवी की आराधना और यंत्र सहित मंत्र जप करें, सफलता मिलेगी। इन देवियों में से सौम्य देवियां जल्द प्रसन्न होने वाली और तुरंत फल देने वाली मानी जाती हैं। किसी भी राशि का जातक पूरी मानसिक और शारीरिक शुद्धता के  साथ देवी का  स्मरण और पूजा-पाठ करता है तो शीघ्र लाभ मिलता है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    4 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook