आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

03 जुलाई 2013

अमरनाथ में शेषनाग का महत्व


बर्फानी बाबा के दर्शनों के लिए अमरनाथ यात्रा शुरू हो चुकी है। हजारों की तादाद में देश भर के शिव भक्त अमरनाथ की पवित्र गुफा के दर्शन को जम्मू कश्मीर पहुंच रहे हैं। भगवान शिव की आस्था के इस मार्ग में जहां यात्रियों को कई तरह की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है वहीं यहां आने पर प्रकृति की सुंदरता के अद्भुत दर्शन भी करने को मिलते हैं।


अमरनाथ यात्रा में शेषनाग झील का धार्मिक महत्व है। यह कश्मीर वैली के लोकप्रिय टूरिस्ट जगहों में से एक हैं। यह पहलगाम से लगभग 23 किलोमीटर जबकि श्रीनगर से लगभग 120 किलोमीटर दूर है। यहां से अमरनाथ गुफा 20 किलोमीटर की दूरी पर है। यह झील जमीन से 3658 की ऊंचाई पर स्थित है। शेषनाग झील की अधिकतम लंबाई 1.1 किलोमीटर है जबकि इसकी चौड़ाई 0.7 किलोमीटर है। इस चारों ओर चौदह-पन्द्रह हजार फीट ऊंचे-ऊंचे पर्वत हैं।

शेषनाग झील हिन्दुओं का एक प्रमुख तीर्थस्थल है। सर्दियों में यह झील जम जाती है जहां पहुंचना कठिन हो जाता है। इस झील को चारो ओर से कई ग्लेशियरों ने अपने आगोश में ले रखा है। यहीं से लिद्दर नदी निकलती है जो पहलगाम की सुन्दरता में चार चांद लगा देती है।

भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार शेषनाग का मतलब सांपों के राजा से लिया जाता है। ऐसी धारणा है कि जब शिव जी माता पार्वती को अमरकथा सुनाने अमरनाथ ले जा रहे थे, तो उनका इरादा था कि इस कथा को कोई ना सुने इसलिए शेषनाग को इस झील में छोड़ दिया। ताकि कोई इस झील को पार करके आगे न जा पाए। आज भी कहा जाता है कि कभी-कभी झील के पानी में शेषनाग दिखाई देते हैं।

यह इलाका दुर्गम होने की वजह से यहां न तो कोई होटल है और न ही कोई गेस्ट हाउस। अधिकतर यात्री चन्दनवाड़ी ठहरते हैं और वहां से 16 किलोमीटर पैदल चलकर या फिर पोनी पर बैठकर इस झील के दर्शन करने आते हैं। अगर यात्री इस झील के आसपास रुकना भी चाहते हैं तो यहां कई तरह के तम्बू उपलब्ध हैं और राज्य सरकार द्वारा प्रबंध किए जाते हैं। यह तम्बू अप्रैल से जून महीने तक उपलब्ध रहते हैं। इस तरह के तम्बुओं की कीमत एक रात के लिए 400 रुपए तक है।

यहां आते समय ध्यान रखें कि आपके पास पानी की बोतल और बरसात से बचने के लिए छाता और रेनकोट जरूर हो। आप ठंड से बचने का सभी सामान साथ ले जाएं। साथ ही चेहरे और शरीर पर लगाने के लिए क्त्रीम का भी प्रबंध करने के बाद ही जाएं। खाने में आप सूखे मेवे और चॉकलेट रखना ना भूलें।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    7 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook