आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार (Year's 2016festival) नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

10 जुलाई 2013

साम्य और एकता की प्रतीक पुरी रथयात्रा


श्रीपुरुषोत्तम क्षेत्र (जगन्नाथपुरी) का महत्व वर्णनातीत है। वेद, उपनिषद् तथा पुराणों में पुरुषोत्तम की प्रशस्ति वर्णित है। श्री जगन्नाथ जी का दूसरा नाम पुरुषोत्तम और धाम का नाम भी पुरुषोत्तम है। यह परम रहस्यमय देवता हैं। वे शैवों के लिए शिव, वेदान्तियों के लिए ब्रह्म, जैनियों के लिए ऋषभनाथ और गाणपत्यों के लिए गणेश हैं। अत: जो जिस रूप से दर्शन करना चाहे, उसके लिए उसी रूप में श्री जगन्नाथ जी विद्यमान हैं। पुरी धाम कलियुग का पवित्र धाम है। श्री जगन्नाथ जी के प्राकट्य की रहस्यमय कथा ब्रह्म पुराण तथा स्कंद पुराण में वर्णित है। जगन्नाथ जी अजन्मा और सर्वव्यापक होने पर भी दारुब्रह्म के रूप में अपनी अद्भुत लीला दर्शाते आ रहे हैं। जगन्नाथ क्षेत्र में जगन्मैत्री की श्रेष्ठ भावना सन्निहित है। उसका प्रमाण श्री जगदीश रथयात्रा है। इस स्थान पर सर्वप्रथम नीलांचल-संज्ञक पर्वत ही था तथा सर्वदेवाराधनीय भगवान नीलमाधव जी का विग्रह उक्त पर्वत पर ही था। कालक्रम से यह पर्वत पाताल में चला गया। देवता लोग भगवद्विग्रह को स्र्वगलोक ले गये। इस क्षेत्र को उन्हीं की पावन स्मृति में आज भी श्रद्धा से ‘नीलांचल’ कहा जाता है। श्री जगन्नाथ मंदिर शिखर पर संलग्नचक्र ‘नीलच्छत्र’ के दर्शन जहां तक होते रहते हैं, वह संपूर्ण क्षेत्र ही श्री जगन्नाथ पुरी है। श्री जगन्नाथ जी की द्वादश यात्राओं में गुण्डिचा यात्रा मुख्य है। यहीं मंदिर में विश्वकर्मा ने भगवान जगन्नाथ, बलभद्र तथा उनकी बहिन सुभद्रा जी की दारु प्रतिमाएं बनाई थीं। महाराज इंद्रद्युम्र तथा उनकी पत्नी विमला की भक्ति व श्रद्धा से प्रसन्न होकर भगवान ने उन्हें इन मूर्तियों को प्रतिष्ठित करने का आदेश दिया था। प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को रथयात्रा संपन्न होती है जिसमें न केवल भारत अपितु विदेशों से भी श्रद्धालु भाग लेते हैं। रथ को खींचने तथा उसके दर्शन करने की होड़ लगी रहती है। करोड़ों लोगों का लक्ष्य एक ही होता है। इसीलिए यह रथयात्रा साम्य तथा एकता की प्रतीक मानी जाती है।
श्री जगन्ननाथ पुरी रथयात्रा के महत्व व परिणामों का विस्तृत वर्णन पुराणों में मिलता है। उस समय रथ पर विराजमान होकर यात्रा करते हुए श्री जगन्नाथ जी का लोग भक्ति पूर्वक दर्शन करते हैं, उनका भगवान के धाम में निवास होता है। जो श्रेष्ठ पुरुष रथ के आगे नृत्य करके गाते हैं, वे मोक्ष प्राप्त करते हैं। जो मनुष्य रथ के आगे खड़े होकर चंवर, व्यंजन, फूल के गुच्छों अथवा वस्त्रों से भगवान पुरुषोत्तम को हवा करते हैं, वह ब्रह्मलोक में जाकर मोक्ष प्राप्त करते हैं। इस समय दिया-दान भी अक्षय फल प्रदान करता है। जो अज्ञानी और अविश्वासी हैं, उनके मन में विश्वास उत्पन्न करने के लिए भगवान विष्णु प्रतिवर्ष यात्रा आरंभ करते हैं। इसकी पृष्ठभूमि माता रोहिणी द्वारा व्रज-लीला सुनाने, कृष्ण, बलराम व सुभद्रा का द्वार पर बैठने, माता की परम पावन वार्ता से उनका प्रेमानंद में विह्वल होना, उनके अंगों का संकुचित होकर निश्चल स्थावर प्रतिमूर्ति स्वरूप परिलक्षित होना, नारद का वहां आना, भगवान से उसी रूप में वहां विराजमान रहने का आग्रह करना तथा भगवान के इस आग्रह को स्वीकार करना, आदि का प्रसंग है। स्कंद पुराण के अनुसार राजा इंद्रद्युम्र को स्वयं भगवान ने कहा कि उनका जन्म स्थान उन्हें अत्यंत प्रिय है, अत: वे वर्ष में एक बार वहां अवश्य आएंगे।
रथयात्रा में तीनों रथों के विभिन्न नाम परम्परागत हैं। बलभद्र जी के रथ का नाम तालध्वज, सुभद्रा जी के रथ का नाम देवदलन और जगन्नाथ जी के रथ का नाम नन्दीघोष है। पुरी के महाराजा प्रथम सेवक होने के नाते रथों को सोने की झाड़ू से बुहारते हैं तथा उसके बाद रथों को खींचा जाता है। ये रथ प्रतिवर्ष लकड़ी के बनाये जाते हैं और इनमें तीनों विग्रह भी काष्ठ के होते हैं। काष्ठ के विग्रहावतार धारण करने के विषय में एक प्रसंग है कि एक बार भक्तों के अधीन होकर और भक्तों की श्रेष्ठता दिखाते हुए भगवान ने प्रतिज्ञा की थी कि मैं चित्ररथ गन्धर्व को न मार डालूं तो मेरा कलियुग में काष्ठ का विग्रह हो। उस ऋषि के अपराध करने वाले गन्धर्व को अर्जुन और सुभद्रा ने अभयदान दिया था। भगवान ने भक्तों के सामने हार मानी और वे श्री क्षेत्र जगन्नाथ में काष्ठ विग्रह के रूप में प्रतिष्ठित हुए। रथयात्रा में विभिन्न स्थानीय पारंपरिक रीति-रिवाजों को बड़ी श्रद्धा और विश्वास के साथ निभाया जाता है। रथयात्रा उत्सव दस दिनों तक मनाया जाता है। वैष्णवों की यह मान्यता है कि राधा और श्रीकृष्ण की युगल मूर्ति के प्रतीक स्वयं जगन्नाथ जी हैं क्योंकि वे ही पूर्ण परब्रह्म हैं।
इस प्रकार पुरी की रथयात्रा पारंपरिक प्राचीन प्रथा का निर्वहन है जो जन-जन को भगवान का सामीप्य प्रदान कराने हेतु है। रथारूढ़ भगवान जगन्नाथ के दर्शन मात्र से मनुष्य को जन्म-मृत्यु के बंधन से मुक्ति मिल जाती है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    4 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook