आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

29 अगस्त 2013

प्रथम पूजनीय श्रीगणेश


गणेश जी ऐसे देवता है, जिनकी पूजा-अर्चना हिंदू परिवारों के प्रत्येक धार्मिक आयोजनों में सबसे पहले की जाती है। गणेश जी की उत्पति और इनके प्रथम पूज्य होने के संबंध में विभिन्न पुराणों में अलग-अलग कथाएं मिलती हैं। हालांकि इनमें से कुछ ऐसी हैं, जिनमें विशेष संदर्भो में समानता है। गोस्वामी तुलसीदास जी श्रीरामचरितमानस की रचना के प्रथम मंगल श्लोक में उनका स्मरण करते हुए कहते है- अक्षरों, अर्थ समूहों, रसों, छंदों और मंगलों की रचना करने वाली सरस्वती और गणेश जी की मैं वंदना करता हूं।

प्रचलित कथा

श्रीगणेश की पूजा सबसे पहले क्यों की जाती है, इस संबंध में बहुत रोचक कथा प्रचलित है। एक बार भगवान शिव के समक्ष गणेश और कार्तिकेय दोनों भाइयों के बीच इस बात को लेकर विवाद हो गया कि दोनों में बड़ा कौन है। यह सुनकर भगवान शिव ने कहा किजो अपने वाहन के साथ सबसे पहले समस्त ब्रह्मांड की परिक्रमा करके मेरे पास लौट आएगा वही बड़ा माना जाएगा। यह सुनते ही भगवान कार्तिकेय अपने वाहन मोर पर सवार ब्रह्मांड की परिक्रमा के लिए निकल पड़े। लेकिन भगवान गणेश ने अपने वाहन चूहे पर बैठ कर माता-पिता की परिक्रमा की और सबसे पहले उनके सामने हाथ जोड़कर खड़े हो गए। उन्होंने कहा कि मेरी परिक्रमा पूरी हो गई क्योंकि मेरा संसार मेरे माता-पिता में ही निहित है। बालक गणेश का यह बुद्धिमत्तापूर्ण उत्तर सुनकर भगवान शिव इतने प्रसन्न हुए कि उन्हें प्रथम पूज्य होने का वरदान दिया।

भगवान का गजानन स्वरूप

भगवान गणेश गजानन क्यों है? इस संबंध में यह कथा प्रचलित है कि जब माता पार्वती स्नान कर रही थीं तो उन्होंने द्वार के बाहर भगवान गणेश को पहरा देने के लिए बैठा रखा था कि वह किसी को भीतर न आने दें। इसी बीच भगवान शिव भीतर जाने लगे तो बालक गणेश ने उन्हे भीतर जाने से रोक दिया। इस बात पर शिव ने क्रोधित होकर उसका सिर काट दिया। बाद में जब उन्हे अपने इस कार्य के लिए पश्चाताप हुआ तो उन्होंने हाथी का सिर लगा कर उन्हे गजानन स्वरूप दिया।

इसी प्रकार गणपति का एक दांत टूटने के संबंध में ब्रह्मवैवर्त पुराण में कथा मिलती है। एक बार परशुराम शिव के दर्शन के लिए कैलास गए। वहां श्रीगणेश द्वार की रक्षा कर रहे थे। परशुराम भीतर जाना चाहते थे पर गणेश ने उनको रोका। इस संघर्ष में परशुराम ने शिव का दिया हुआ परशु नामक अस्त्र उन पर चलाया। गणेश पिता द्वारा दिए गए अस्त्र का अपमान नहीं करना चाहते थे। अत: उस परशु को उन्होंने अपने एक दांत पर ले लिया, जिससे उनका एक दांत टूट गया।

महाभारत में इस बात का संदर्भ मिलता है कि महाभारत के रचयिता वेद व्यास द्वारा बोले गए शब्दों को लिपिबद्ध करके उसे ग्रंथ का रूप देने का काम श्रीगणेश ने ही किया था।

गणेश का जन्मोत्सव

स्कंद पुराण के अनुसार भाद्रपद महीने के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को भगवानं गणेश का अवतार हुआ था। इसीलिए इस दिन हर्षोल्लास के साथ गणेश चतुर्थी का त्योहार मनाया जाता है और दस दिनों के बाद अनंत चतुदर्शी के दिन धूमधाम के साथ गणपति का विसर्जन किया जाता है। दीपावली के अवसर पर भारत एवं कई अन्य देशों में हिंदू-धर्मावलंबी परिवारों में महालक्ष्मी जी और भगवान श्रीगणेश का पूजन होता है। महालक्ष्मी धन की देवी है। श्रीगणेश सभी विघ्नों के नाशक और सुंबुद्धि प्रदान करने वाले है। इसीलिए देवी लक्ष्मी के साथ हमेशा गणेश की भी पूजा की जाती है।

गणेश केवल भारत ही नहीं बल्कि जावा, बर्मा , चीन, जापान, तिब्बत, श्रीलंका, थाइलैंड आदि देशों में भी विभिन्न नामों से पूजनीय है।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    6 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook