आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

22 अक्तूबर 2013

गोवर्धन पूजा – भगवान श्री कृष्ण की अद्भुत लीला

Govardhandhari Krishnamurari


कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन उत्सव मनाया जाता है । इस दिन अन्न कुट, मार्गपाली आदि उत्सव भी सम्पन्न होते है । यह ब्रजवासियो का मुख्य त्यौहार है । अन्नकुट या गोवर्धन पूजा भगवान कृष्ण के अवतार के बाद द्वापर युग से प्रारम्भ हुई । गाय बैल आदि पशुओं को स्नान कराकर फूल माला, धूप, चन्दन आदि से उनका पूजन किया जाता है । गायो कामिठाई खिलाकर उनकी आरती उतारी जाती है तथा प्रदक्षिणा की जाती है । गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाकर जल, मौली, रोली, चावल,फूल दही तथा तेल का दीपक जलाकर पूजा करते है तथा परिक्रमा करते है ।
एक बार श्री कृष्ण गोप गोपियो के साथ गाये चराते हुए गोवर्धन पर्वत की तराई में पहुचे । वहाँ उन्होने देखा कि हजारो गोपियाँ गोवर्धन पर्वत के पास छप्पन प्रकार के भोजन रखकर बडें उत्साह से नाच गाकर उत्सव मना रही है । श्री कृष्ण के पूछने पर गोपियो ने बताया कि मेघो के स्वामी इन्द्र को प्रसन्न रखने के लिए प्रतिवर्ष यह उत्सव हता है । कृष्ण बोले यदि देवता प्रत्यक्ष आकर भोग लगाएँ तब तो इस उत्सव की कुछ किमत है । गोपियां बोलींतुम्हे इन्द्र की निन्दा नहीं करनी चाहीए ।

Annkut Mahotsav


श्री कृष्ण बोले वर्षा तो गोवर्धन पर्वत के कारण होती है इसलिये हमें इन्द्र की जगह गोवर्धन पर्वत की पूजा करनी चाहिए। सभी गोप ग्वाल अपने अपने घरों में पकवान ला लाकर श्रीकृष्ण की बताई विधी से गोवर्धन पर्वत की पूजा करने लगे । इन्द्र को जब पता चला कि इस वर्ष मेरी पूजा न कर गोवर्धन की पूजा की जा रही है तो वह बहुत कुपित हुए और मेघ को आज्ञा दी कि गोकुल में जाकर इतना पानी बरसाये कि वहाँ पर प्रलय आ जाये। मेघ इन्द्र की आज्ञा से मुसलाधार वर्षा करने लगे। श्रीकृष्ण ने सब गोप गोपियों को आदेश दिया कि सब अपने अपने गाय बछडों को लेकर गोवर्धन की तराई में पहुंच जाएं। गोवर्धन ही मेघ से रक्षा करेंगे । सब गोप-गोपियां अपने अपने गाय बछडों, बैलों को लेकर गोवर्धन पर्वत की तराई में पहुंचने लगे । श्री कृष्ण ने गोर्वधन पर्वत को अपनी कनिष्ठ उँगली पर धारण कर छाता सा तान दिया । सब ब्रजवासी सात दिन तक गोवर्धन पर्वत की शरण में रहे । सुदर्शन चक्र के प्रभाव से ब्रजवासियो पर जल की एक बूँद भी नहीं पडी । ब्रह्याजी ने इन्द्र को बताया कि पृथ्वी पर श्री कृष्ण ने जन्म ले लिया है । उनसे तुम्हारा वैर लेना उचित नहीं है । श्रीकृष्ण अवतार की बात जानकर इन्द्रदेव अपनी मुर्खता पर बहुत लज्जित हुए तथा भगवान श्रीकृष्ण से क्षमा याचना करने लगे । श्रीकृष्ण ने सातवेंदिन गोवर्धन पर्वत को नीचे रखकर ब्रजवासियों से कहा कि अब तुम प्रतिवर्ष गोवर्धन पूजा कर अन्नकूट का पर्व मानाया करो । तभी से यह पर्व के रूप में प्रचलित हो गया ।

अब यह घर-घर में प्रचलित है। इस दिन महिलाएं गोबर से आंगन में चौकोर पूरती हैं। चौकोर के मध्य साबुत अन्न रख कर लट्ठ से कूटती हैं। बहनें अपने भाईयों को केराव का दाना निगलने को देती है। साथ में मिठाईयां भी और यदि विवाहित हैं तो अपने घर में भोजन का आमंत्रण देती हैं। शास्त्रों के अनुसार यह भाई-दूज कहलाता और बहन अपने भाई की मंगल कामना करती हैं। कहा जाता है कि इस दिन मृत्यु के देवता यमराज ने अपनी बहन यमुना के घर भोजन किया था।

इस त्योहार के पीछे एक कथा प्रचलित है कहा जाता है कि यम और यमुना भाई-बहन थे। एक दिन यम ने यमुना के यहां खाना खाया और इसी दिन से ही यह त्योहार मनाया जाने लगा। गोधन कूटने के पीछे भी एक कारण है मथुरा में गोधन नाम का एक यदुवंशी रहता था। उसकी पत्नी गोपीयों के साथ कृष्ण के यहां जाती थी। जब भगवान बासुंरी की मीठी तान छोड़ते तो सारी गोपीयां नदी के किनारे चली आती जब गोधन को यह पता चला की उसकी पत्नी भी जाती है तो वह उसे देख्नने लगा तभी श्री कृष्ण ने उसे देखा और मार दिया। गोपीयों ने भी उसे लाठी- डंडे से पीटकर मार दिया। इस दिन स्त्रियां रेगनी के कांटे से अपने भाईयों को श्राप देती हैं और बाद में गोधन को कूट्कर वहां से पानी लाकर श्राप से मुक्ति दिलाने के लिये भगवान से प्रार्थना करती हैं।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    5 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook