आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

25 मई 2013

HINDI 28 ANMOL BHAJAN


Rajesh Mishra Choice 28 Anmol Bhajan : 1. Kabhi Ram ban ke...,  2. Tune mujhe bulaayaa Sheraawaalin..., 3. Deva o deva Ganpati deva..., 4. Yashomati maiya se..., 5. Rang de chunaria…, 6. Shayam ke bina na tum aati..., 7. Radha ki payal..., 8Radha ko naam anmol..., 10. Radhika gori se..., 11. Duniya chale na shri ram ke bina..., 12. Aaj Biraj me hori re rasiya.., 13. Oh saware kanahiya..., 14. SitaRam SitaRam Kahiye..., 15. Ram naam ke heere moti..., 16. Raadha dhund rahi.., 17. paayo ji mainne..., 18. mukunda maadhava govinda bol...., 19. Mithe rasase bharoi radha raani..., 20. Bajarangi tume manavu..., 21. Shyam teri bansi..., 22. Koi kahe govinda koi gopala..., 23. Aisi laagi lagan..., 24. Kaun kehta hai ki bahgwan aate nahi..., 25. Misri se mitha hari naam..., 26. Dhoor nagari..., 27. Kab loge hamri kabriya, ho bajarang bali..., 28. Bajrang bali meri naav chali....

Kabhi Ram ban ke, kabhi Shyam...



(Kabhi Ram ban ke kabhi Shyam ban ke,
Chale aana Prabhu Ji chale aana.)-2

Tum Ram roop mein aana,-2
Sita saath leke dhanush haat leke,
Chale aana Prabhu Ji chale aana.
Kabhi Ram ban….

Tum Shyam roop mein aana,-2
Radha saath leke murli haat leke,
Chale aana Prabhu Ji chale aana.
Kabhi Ram ban ….

Tum Shiv ke roop mein aana,-2
Gouri saath leke damru haat leke,
Chale aana Prabhu Ji chale aana.
Kabhi Ram ban….

Tum Vishnu roop mein aana,-2
Lakhsmi saath leke chakra haat leke,
Chale aana Prabhu Ji chale aana.
Kabhi Ram ban ….

Tum Ganapati roop mein aana,-2
Riddhi saath leke siddhi saath leke,
Chale aana Prabhu Ji chale aana.
Kabhi Ram ban ….

Kabhi Ram ban ke kabhi Shyam ban ke,Chale aana Prabhu Ji chale aana.
Kabhi Ram ban….

OR IN HINDI

(कबही राम बन के कबही श्याम बन के
चले आना प्रभु जी चले आना.) -2

तुम राम रूप में आना,-2
सीता साथ लेके धनुष हात लेके,
चले आना प्रभु जी चले आना.
कबही राम बन ….

तुम श्याम रूप में आना,-2
राधा साथ लेके मुरली हात लेके
चले आना प्रभु जी चले आना
कबही राम बन ….

तुम शिव के रूप में आना,2
गौरी साथ लेके डमरू हात लेके,
चले आना प्रभु जी चले आना
कबही राम बन ….

तुम विष्णु रूप में आना,-2
लख्स्मी साथ लेके चक्र हात लेके
चले आना प्रभु जी चले आना.
कबही राम बन ….

तुम गणपति रूप में आना,-2
रिद्धि साथ लेके सिद्धि साथ लेके
चले आना प्रभु जी चले आना.
कबही राम बन ….

कबही राम बन के कबही श्याम बन के,
चले आना प्रभु जी चले आना.
कबही राम बन …


Tune mujhe bulaayaa Sheraawaalin




Tune mujhe bulaayaa Sheraawaalin e, main aayaa main aaya Sheraawaalin e
o jyotaanvaali e, pahaadaawaali e, o meharaawaali e
main aayaa main aaya Sheraawaalin e


saaraa jag hai ek banjaaraa, sabki manjhil tera dwaaraa,
unche parvat lambaa raastaa, par main reh na paayaa Sherawaalin e,
Tune mujhe bulaayaa Sheraawaalin ...........

sune man main jal gai baati, kirtan main Maa mil gaye saathi.
munha kholuun kyaa tujse maangu, bin mange sab paayaa Sherawaalin e
Tune mujhe bulaayaa Sheraawaalin..............

kaun hai raajaa kaun bhikhaari, ek baraabar tere saare pujaari
tune sabko darshan deke, apne gale lagaayaa Sherawaalin e
Tune mujhe bulaayaa Sheraawaalin..............

prem se bolo Jai Maataa ki, saare bolo jai Maataa ki
Aate bolo jai Maataa ki, Jaate bolo Jai Maataa ki
Kasht nivare jai Maataa ki, Paar utaare jai Maataa ki


meri Maan bholi, Maan bhar de jholi woh paar uttare jai Maataa ki
vo kasht nivare jai Maataa di, Jai Maatadi, Jai Maataa di ....

OR IN HINDI

तुने मुझे बुलाया शेरांवाली ए, मैं आया मैं आया शेरांवाली ए
ओ ज्योतांवाली ए, पहाडावाली ए, ओ मेहरावाली ए
मैं आया मैं आया शेरांवाली ए


सारा जग है एक बंजारा, सबकी मंझिल तेरा द्वारा,
ऊँचे पर्वत लंबा रास्ता, पर मैं रह न पाया शेरांवाली ए,
तुने मुझे बुलाया शेरांवाली ए ...........

सुने मन मैं जल गई बाती, कीर्तन मैं माँ मिल गए साथी.
मुंह खोलूं क्या तुजसे मांगू, बिन मांगे सब पाया शेरांवाली ए
तुने मुझे बुलाया शेरांवाली ए ..............

कौन है राजा कौन भिखारी, एक बराबर तेरे सारे पुजारी
तुने सबको दर्शन देके, अपने गले लगाया शेरांवाली ए
तुने मुझे बुलाया शेरांवाली ए ..............

प्रेम से बोलो जय माता की, सारे बोलो जय माता की
आते बोलो जय माता की, जाते बोलो जय माता की
कष्ट निवारे जय माता की, पार उतारे जय माता की


मेरी माँ भोली, मान भर दे झोली वोह पार उत्तरे जय माता की
वो कष्ट निवारे जय माता दी, जय मातादी, जय माता दी ....

Deva o deva Ganpati deva





ganapati bappa morayaa, mangal moorti moraya

deva ho deva ganapati deva tumase badhakar kaun
swaami tumse badhakar kaun
aur tumhaare bhaktajanon mein hamse badhakar kaun
hamse badhakar kaun

adbhut roop ye kaaya bhaari mahima badi hai darshan ki
prabhu mahima badi hai darshan ki
bin maange poori ho jaaye jo bhi ichchha ho man ki
prabhu jo bhi ichchha ho man ki

bhakton ki is bheed mein aise bagula bhagat bhi milate hain
haan bagula bhagat bhi milate hain
bhes badal kar ke bhakton ka jo bhagawaan ko chhalte hain
are jo bhagawaan ko chhalte hain

chhoti si aasha laaya hoon chhote se man mein daata
is chhote se man mein daata
maangane sab aate hain pahale sachcha bhakt hi hai paata
sachcha bhakt hi hai paata

ek daal ke phoolon ka bhi alag alag hai bhaagy raha
prabhu alag alag hai bhaagy raha
dil mein rakhana dar usaka mat bhool vidhaata jaag raha
mat bhool vidhaata jaag raha

OR IN HINDI

गणपति बाप्पा मोरया, मंगल मूर्ती मोरया

देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन
स्वामी तुमसे बढ़कर कौन
और तुम्हारे भक्तजनों में हमसे बढ़कर कौन
हमसे बढ़कर कौन

अद्भुत रूप ये काय भारी महिमा बड़ी है दर्शन की
प्रभु महिमा बड़ी है दर्शन की
बिन मांगे पूरी हो जाए जो भी इच्छा हो मन की
प्रभु जो भी इच्छा हो मन की

भक्तों की इस भीड़ में ऐसे बगुला भगत भी मिलते हैं
हाँ बगुला भगत भी मिलते हैं
भेस बदल कर के भक्तों का जो भगवान को छलते हैं
अरे जो भगवान को छलते हैं

छोटी सी आशा लाया हूँ छोटे से मन में दाता
इस छोटे से मन में दाता
माँगने सब आते हैं पहले सच्चा भक्त ही है पाता
सच्चा भक्त ही है पाता

एक डाल के फूलों का भी अलग अलग है भाग्य रहा
प्रभु अलग अलग है भाग्य रहा
दिल में रखना दर उसका मत भूल विधाता जाग रहा
मत भूल विधाता जाग रहा
जय गणेश जय गणेश

Yashomati maiya se




Yashomati mayyaa se bole Nandlaala
Raadha kyon gori main kyon kaala
Raadha kyon gori main kyon kaala

boli muskaati mayyaa lalan ko bataaya
boli muskaati mayyaa lalan ko bataaya
kaari andhiyari aadhi raat mein tu aaya
laadlaa Kanhayya mera ho
laadlaa Kanhayya mera kaali kamli waala
isiliye kaala

Yashomati mayyaa se bole Nandlaala
Raadha kyon gori main kyon kaala
Raadha kyon gori main kyon kaala

boli muskaati mayya sun mere pyaare
boli muskaati mayya sun mere pyaare
gori-gori Raadhika ke nain kajraare
kaale nainon waali ne ho
kaale nainon waali ne aisaa jaadu daala
isiliye kaala

Yashomati mayyaa se bole Nandlaala
Raadha kyon gori main kyon kaala
Raadha kyon gori main kyon kaala

Rang de chunaria… (anup jalota)




Shyam Piya More Rang de Chunaria (2)
Rang de chunaria(2)
Shyam Piya more Rang de Chunaria (2)

Aisi rang de ke rang nahi choote
Aisi rang de rang de rang de ke rang nahi choote
Dhobiya dooye chahe ye sari umariya (2)

Oh shyam piya more rang de chunaria
Shyam piya more rang de chunaria
Rang de (5)
Rang de chunaria

Lal na rangavu mei
Hari na rangavu
Apne hi rang me rang de chunaria (2)

Oh shyam piya more rang de chunaria
Shyam piya more rang de (chunaria) (6)
Rang de (9)
Rang de chunaria
Bina rangaye mai to ghar nahi javongi
Bina... rangaye mai to ghar nahi... javongi
Pa pa da nida dapa
Pa da ma pa gama pa
Pa da ma pa ga ma ri
Ga ma riga sa ni sa

Shyam piya more rang de chunaria
Mira ke prabhu giridhar nagar

Jal se patla koun hai
Koun bhumi se bhari
Koun agn se tej hai
Koun kajal se kali

Jal se patla... patla (3)
Jal se patla jnan hai
Aur paap bhumi se bhari
Krodh agn se tej hai
Aur kalank kajal se kali

Mira k prabhu giridhar nagar
Prabhu charanan me hari charanan me
Shyam charanan me lagi nazariya
Oh Sham piya more

Shayam ke bina na tum aati





Shayam ke bina na tum aati,
tumhare bina na shayam aate.
Radhe radhe, radhe radhe

Aantho pahar jo rahe aang saag,
Us saaware ki ek jalak dikhla de
Radhe radhe, radhe radhe

Mai to saaware ki raang mai raachi
Baandh gungaroo bhi paag mai nachi
Kaiso nishtur bahyo yasodha ko laala, baat mere hirday kin na bhaati
Koi aapno ke sang yu karte nahi ,
Saaware ko ye samja de
Radhe radhe, radhe radhe

Chavi shayam ki basai lai cheet mai
Gadi baad mai niharu nit nit mai
Shayam k bina mohe kachu na sujhe, shayam ke bina jau kith mai
Kaise bhujhe piyas ninanah ki
Rasta koi to baatla de
Radhe radhe, radhe radhe

Kahi kesav kahi pe kanahiya
Kahi natwar raas rachiya
Bhawle pe aatki naiya, bhawar paar karde naav bankar khewaiya
Oh Vbinti saral ki ittni si
Oh laakha bansi bajaiya paas pahuncha de
Radhe radhe, radhe radhe

Shayam ke bina na tum aati,
tumhare bina na shayam aate.
Radhe radhe, radhe radhe

Radha ki payal




Radha ki payal
Radha ki payal cham cham baje
Cham cham baje payal , radha rani nache
Shayam ne cheda tarana
Shayam ne cheda tarana, raadha ka shayam diwana
Radha ka shayam diwana, raadha ka shayam diwana diwana diwana.

Radha jab payal chamkawe,
Kanudo jat dodiyo aawe
Kare na koi bahana
Radha ka shyam diwana
Shayam ne cheda tarana, raadha ka shayam diwana
Radha ka shayam diwana, raadha ka shayam diwana diwana diwana.

Hari bhari dharti , hariyo bariyo upwan
Gunj rahiyo saro brindavan
(Gunj rahiyo barsana)
Radha ka shyam diwana
Shayam ne cheda tarana, raadha ka shayam diwana
Radha ka shayam diwana, raadha ka shayam diwana diwana diwana.

Goor varan ki radha pyari
Sawali surat kirshn murari
Jyu shama parwana
Radha ka shyam diwana
Shayam ne cheda tarana, raadha ka shayam diwana
Radha ka shayam diwana, raadha ka shayam diwana diwana diwana.

Nandu bhaj shri radhe radhe
Radhe ji shri shaym su mila de
Prem ka mantr suhana
Radha ka shyam diwana
Shayam ne cheda tarana, raadha ka shayam diwana
Radha ka shayam diwana, raadha ka shayam diwana diwana diwana.

Radha ko naam anmol






Radha ko naam anmol , bolo radhe radhe
Shayama ko naam anmol bole radhe radhe

Bharma bhi bole radhe, Vishnu bhi bole radhe
Shankar ke damru se aawaj aawe radhe radhe
radha ko naam…

Ganga bhi bole radhe, Yamuna bhi bole radhe
Sariyu Ki dhaar se aawaj aawe radhe radhe
radha ko naam…

Chanda bhi bole radhe , suraj bhi bole radhe
Taaro k mandal se aawaj aawe radhe radhe
radha ko naam…

Gaiya bhi bole radhe, bachda bhi bole radhe
Dhud ki dhaar se aawaj aawe radhe radhe
radha ko naam…

Gopi bhi bole radhe , gawale bhi bole radhe
Biraj ki sab galiyo se aawaj aave radhe radhe
radha ko naam…

Radha ko naam anmol , bolo radhe radhe
Shayama ko naam anmol bole radhe radhe
radha ko naam…

Radhika gori se






Radhika gori se, biraj ki chori se ,
Maiya karade mero byah

Umar teri choti hai, nazar teri khoti hai,
Kaise karadu tero byah

Jo nahi byah karave, teri gaiya nahi charau
Aaj k baad meri maiya ,teri deehali par na aauu
Aayega re mazza, re mazza ,ab jeet haar ka.
(Radhika gori se, biraj ki chori se ,
Maiya karade mero byah
Umar teri choti hai, nazar teri khoti hai,
Kaise karadu tero byah)

Chandan ki chowki par maiya tujhko behatau
Aapni radhika se mai, charan tore dabwaau
Bojan mai banwaunga, banwaunga, chapaan parkar ke
(Radhika gori se, biraj ki chori se ,
Maiya karade mero byah
Umar teri choti hai, nazar teri khoti hai,
Kaise karadu tero byah)

Choti si dulhaniya jab aangana mai dolegi
Tere samne maiya wo gungahat na kholegi,
daau se ja kaho ja kaho betege dawar par
(Radhika gori se, biraj ki chori se ,
Maiya karade mero byah
Umar teri choti hai, nazar teri khoti hai,
Kaise karadu tero byah)

Suun baate kahna ki,maiya behati muskaay,
Leke balaiya maiya, hivde se apne lagaaye
Najar kahi ,lag jaye na, lag jaye na mere laal ko.
Radhika gori se biraj ki chori se
maiya karadu tero biyah

Radhika gori se, biraj ki chori se ,
Maiya karade mero byah
Radhika gori se biraj ki chori se
Kahna karadu tero biyah
Radha karadu tero biyah
Kahna karadu tero biyah

Duniya chale na shri ram ke bina




Duniya chale na shri ram ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina,Ramji chale na hanuman ke bina .
Duniya chale na shri raam ke bina

Jab se ramayan padh le hai,
Ek baat maine samaj le hai
Ravan mare na shri ram ke bina,
Lanka jale na hanuman ke bina.
(Duniya chale na shri ram ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina)

Lakshman ka bachna mushkil tha
Kaun buti laane ke kabil tha
Lakshman baache na shri raam ke bina
Buti mile na hanuman ke bina
(Duniya chale na shri ram ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina)

Sita haaran ki kahani suno
Banwari meri zubaani suno
Vapas mile na shri raam ke bina
Pata chale na hanuman k bina
(Duniya chale na shri ram ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina)

Bahate shingasan par shri raamji
Charno mai bahate hai hanuman ji
Mukti mile na shri raam ke bina
Bhakti mile na hanuman ke bina

Duniya chale na shri ram ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina,Ramji chale na hanuman ke bina .
Duniya chale na shri raam ke bina
Ramji chale na hanuman ke bina

Aaj Biraj me hori re rasiya








Aaj Biraj me hori re rasiya .2
hori re barjori re rasiya .2

Ghar ghar se varaj vanita aai
Koi shamal koi gori re rasiya
aaj biraj me hori re rasiya
hori re barjori re rasiya..

Kaun gaam ke tum re kaniya
Kaun gaam radha gori re rasiya
aaj biraj me hori re rasiya
hori re barjori re rasiya..

Nand gaam ke tum re kanaiya
Barsane ki radha gori re rasiya
aaj biraj me hori re rasiya
hori rebarjori re rasiya..

Udath gulal lal bhaye badal
Marat bhar bhar joli re rasiya
aaj biraj me hori re rasiya
hori nahi barjori re rasiya..

Shyam ke haath kanak pichkaari,
Radha ke haath kamori re rasiya,
aaj biraj me hori re rasiya,
hori re rasiya barjori re rasiya..

Radhe pe Shyam bahut rang dare,
Shyam se Radhe gori re rasiya,
aaj biraj me hori re rasiya,
hori re rasiya barjori re rasiya...

Lal gulal ke badal chaye,
kesar keech machayo re rasiya,
aaj biraj me hori re rasiya,
hori re rasiya barjori re rasiya..

Chandra sakhi bhaj baal krushna chabi,
chir jeeve yeh jori re rasiya,
aaj biraj me hori re rasiya
hori re rasiya barjori re rasiya..

Mera Aapki Krupa Se


Mera Aapki Krupa Se, Sab Kaam Ho Raha Hai, (2)
Karte Ho Tum Kanhaiya, Mera Naam Ho Raha Hai

Patvaar Ke Bina He, Meri Naav Chal Rahi Hai,
Hairaan He Zamana, Manzil Bhi Mil Rahi Hai (2)...
Karta Nahi Mein Kuch Bhi, Sab Kam Ho Raha Hai...
Karte Ho Tum Kanhaiya.......

Tum Saath Ho Jo Mere, Kis Cheez Ki Kami Hai,
Kisi Aur Cheez Ki Ab, Darkaar Hi Nahi Nahi Hai...
Ter Saath Se Gulam, Gulfaam Ho Raha Hai...
Karte Ho Tum Kanhaiya.......

Main To Nahi Hoon Kabil, Tera Paar Kaise Paao,
Tuti Hoyi Vani Se, Gungaan Kaise Gaao,
Teri Prerana Se He, Ye Naam Ho Raha Hai...
Karte Ho Tum Kanhaiya.......

Mujhe Har Kadam Kadam Par, Tune Diya Sahara,
Meri Zindagi Badal Di, Tune Karke Ek Ishara,
Ehsaan Pe Tera Ye, Ehsaan Ho Raha Hai...
Karte Ho Tum Kanhaiya.......

Toofan Andhiyon Mein, Tune He Muzhko Thama,
Tum Krushna Ban Ke Aaye, Main Jab Bana Sudama,
Tera Karam Ye Mujhpar, Sare Aam Ho Raha Hai...
Karte Ho Tum Kanhaiya.......

Mera Aapki Krupa Se, Sab Kaam Ho Raha Hai, (2)
Karte Ho Tum Kanhaiya, Mera Naam Ho Raha Hai

Oh saware kanahiya


Oh saware kanahiya mera pyaar banke aaja
Pyaar banke aaja ,mera pyaar banke aaja,
Oh lok ke basaiya ,avtar banke aaja,
Oh saware kanahiya mera pyaar banke aaja

Aasha ki uljano mai ulja hai mera jivan
Uljan yeh jis se sulje wo taar banke aaja.
Oh saware kanahiya …

Pal pal pukaru kahna, duniya ka hai diwana
Raato ki nid ko ju, tu chand banke aaja.
Oh saware kanahiya …

Jis roop ki chata se ghayal kiya tha madhuban
Oh saware salona mera yaar banke aaja.
Oh saware kanahiya …

Gum ki ghata se dilbar,andhera cha raha hai
Jalwanu mai karde , gumkhar banke aaja.
Oh saware kanahiya …

Shayam more aaja re , Krishn more aaja re
Nadiya kinare , sakhiya pukare, Darsh dikha ja re.

Shyam more aaja re






Shyam more aaja re , Krishn more aaja re
Nadiya kinare , sakhiya pukare, Darsh dikha ja re.

Radha tera matka, mere dil ko de gaya jatka,
Tu chali barsane mai, dola bhatka bhatka.
Shyam more ….

Tu barsane ki gwalan mai gokul ka gwala
Gwala ji mai gokul ka gwala
Tera mera mail mile na , Radha tu gori mai kaala.
Shyam more ….

Hum dil se dil jodenge, par mukh na bolenge,
Dil mai hogi dadhkan ,par aanke na kolenge.
Shyam more ….

Shyam more aaja re , Krishn more aaja re
Nadiya kinare , sakhiya pukare, Darsh dikha ja re.

SitaRam SitaRam Kahiye






SitaRam SitaRam SitaRam Kahiye
Jaahi vidhi raakhe Ram Taahi vidhi rahiye

Mukh mein ho Ram-naam Ram seva haath mein
Tu akela nahin pyaare Ram tere saath mein
Vidhi ka vidhan jaan Haani-laabh sahiye
Jaahi vidhi......

Kiya abhimaan to fir Maan nahin paayega
Hoga pyaare vahi Jo ShriRamji ko bhaayega
Fal asha tyaag subh Karm karte rahiye
Jaahi vidhi .......

Zindagi ki dor saunp Haath dina-nath ke
Mahlon mein raakhe chahe Jhonpadi mein vaas de
Dhanyawad nirvivaad Ram Ram kahiye
Jaahi vidhi......

Aasha ek Ram ji se Duji asha chhod de
Naata ek Ram ji se Duja nata tod de
Sadhu sang Ram rang Ang-ang rahiye
Jaahi vidhi.......

Ram naam ke heere moti




Ram naam ke heere moti men bikravu gali gali
loot sako to loot lo, bin dam lootavu gali gali

jis jis ne ye lote moti, voh sab mala mal huve
moh maya ke bane pujari akir sab kangal huve, akir ve kangal huve
ram nam tere sang jayenga ,
ram nam ter sang jayega, yeh samjavu ghari gari
loot sako to loot lo bin dam lootavu gali gali
ram naam ke heere moti

yad karo bhakto ne kaise, hari ka darshan paya hai
or prabhu ne kaise apne, bhakto apnaya hai
tulsi meera nanda ke itihas sunavu gali gali
loot sako to loot lo bin dam lootavu gali gali
ram naam ke heere moti

jab tak asha joothe jag ki tab tak hota gnan nahi
is jag men hai sabhi bhikari yaha koi dhanvan nahi, yaha koi dhanwan …
jagat seth us savalsha ka
jagat seth us savalsha ka, nam japavu gali gali
loot sako to loot lo bin dam lootavu gali gali
ram naam ke heere moti

maya dolat walo ko bas, joothi rah dekhati hai
parmarath ka panth choora kar, apna nach rachati hai, apna nach …
maya ka abhiman choor do
maya ka abhiman choor do, yeh samjavu gali gali
loot sako to loot lo bin dam lootavu gali gali
ram naam ke heere moti men bikravu gali gali

loot sako to loot lo bin dam lootavu gali gali
ram naam ke heere moti men bikravu gali gali
loot sako to loot lo bin dam lootavu gali gali
ram naam ke heere moti

OR

Ram naam ke here moti mai bikravu gali gali
Le lo re koi ram ka pyara shor machau gali gali
Ram naam ke here moti…

Daulat ke diwane sunlo ek din esha aayega
Dhan yuwan aur roop khajana yahi dhara rah jayega
Sunder kaya mati hogi-2, charcha hogi gali gali
Ram naam ke…….

Pyare mitr saage sambandi ek din tujhe bulaynge
Kal tak aapna jo khete hai agni par tujhe sulayenge
Jagat saraye do din ki hai-2, aakhir hogi chala chali
Lelo re koi raam ka pyara shor machau gali gali
Ram naam ke……..

Kyu karta hai teri meri, chod de abhiman ko
Jute dhande chod de bande jap le hari ke naam ko
Do din ka ye chaman khila hai-2, phir murjaye kali kali
Lelo re koi raam ka pyara shor machau gali gali
Ram naam ke……..

Jis Jis ne ye heere lote wo to malamal huwe
Duniya ke jo bane pujari akhir wo kangal huwe
Dhan dulat aur maya walo-2, mai samjau gali gali
Lelo re koi raam ka pyara shor machau gali gali
Ram naam ke……..


Raadha dhund rahi



raadha dhund rahi, kisi ne mera shaam dekha
shaam dekha, ghanshyaam dekha
raadha dhund rahi, kisi ne mera shaam dekha

raadha tera shaam hamne mathura mein dekha - (2)
bansi bajaate huye, ho raadha tera shaam dekha
raadha dhund rahi, kisi ne mera shaam dekha

raadha tera shaam hamne gokul mein dekha - (2)
are gaiyan charaate huye, ho raadha tera shaam dekha
raadha dhund rahi, kisi ne mera shaam dekha

raadha tera shaam hamne vrindavan mein dekha - (2)
raas rachaate huye, ho raadha tera shaam dekha
raadha dhund rahi, kisi ne mera shaam dekha

raadha tera shaam hamne gatipura mein dekha - (2)
ari parbat uthaate huye, ho raadha tera shaam dekha
raadha dhund rahi, kisi ne mera shaam dekha

raadha tera shaam hamne vaishnavjan mein dekha - (2)
raadhe raadhe japate huye, ho raadha tera shaam dekha
raadha dhund rahi, kisine mera shaam dekha
shaam dekha, ghanshyaam dekha
raadha dhund rahi, kisine mera shaam dekha

paayo ji mainne



paayo ji mainne ram ratana dhana paayo

vastu amolika,ddee mere sataguru,
kirapa kari apanayo,
paayo ji mainne...

janama janama kii, poonji paayi,
jagame sabhii khovaayo,
paayo ji mainne...

kharachai na khutai, chora na luutai,
dina dina ba dhata savaayo,
paayo ji mainne...

sat kii naava, khevatiyaa sataguru,
bhavasaagara tar aayo,
paayo ji mainne...

meeraa ke prabhu, giridhar naagar,
harakha harakha jasa gaayo,
paayo ji mainne..

mukunda maadhava govinda bol




mukunda maadhava govinda bol, keshav maadhav hari hari bol
bola hari bola bola hari bol, mukunda maadhava govinda bol

krishna krishna bol, krishna krishna bol
raama raama bol, raama raama bol..
mukunda maadhava..

shiva shiva bol, shiva shiva bol
narayana bol, narayana bol..
mukunda maadhava..

sitaa raama bol, sitaa raama bol
raadhe shyaama bol, raadhe shyaam bol..
mukunda maadhava

Mithe rasase bharoi radha raani


Mithe rasase bharoi radha raani laage radhaa raani laage
mane kharo kharo yamunaaji ro paani laage,
mane kharo kharo yamunaaji ro paani laage,

yamunaji tho kaali kaali radhaa gori gori,
vrindavan mai dhum machaave, barsaa ne ki chori,
vraj dhaam raadha, vraj dhaani laage, vraj dhaam lage,
mane kharo…

Kana neet murli mein tere, sumire baaram baar,
koti ne roop dhare mana mohan koi ne pawe paar,
roop rang ki chabeli, pat raani laage, pat raani laage,
mane kharo…

Naa bhaave mane maakhan misari, aba naa koi mithai,
maari jibadiya ne bhaave ab to , raadhaa naam malaai,
vraj bhaanu ki lali to, guna dhaani laage, guna dhaani laage,
mane kharo…

raadhaa raadhaa naam ratat hai, jo nar athato yaam,
dekho jinki baada dur karat hai raadha raadha naam
raadhaa naam men safal, jindagaani laage, jindagaani laage,
mane kharo…
mithe rasase bharoi…

Bajarangi tume manavu

Bajarangi tume manavu, sindoor laga laga ke,
tera darshan me to pavuu, tali baja baja ke

Shree ram ne tuje manaya, Lakshman ne tuje manaya,
ke sita ne,
ke sita ne tuje manaya, lanka puri me jake,
bajarangi tume...

Brahma ne tuje manaya, vishnu ne tuje manaya,
ke shankar ne,
ke shankar ne tuje manaya, damru baja baja ke,
bajarangi tume...

Devo ne tuje manaya, rushiyone tuje manaya,
ke narad ne,
ke narad ne tuje manaya, vina baja baja ke,
bajarangi tume...

Santo ne tujhe manaya, bhakto ne tujhe manaya,
Ke bapu ne,
Bapu ne tuje manaya, teri katha suna suna ke,
bajarangi tume...


Shyam teri bansi


Shyam teri bansi baje dhere dhere,
Kana teri bansi baje dhere dhere
Baje dhere dhere shree Yamuna ke teere
Shyam teri murli baje dhere dhere.

Eth Mathura Uth Vrindavan nagari
Bich mai -2 gaiya chare dhere dhere
(Shyam teri bansi baje dhere dhere)

Eth Mathura Uth Gokul nagari
Oh gokul nagari, han gokul nagari
Bich mai-2 yamuna bahe dhere dhere
(Shyam teri bansi baje dhere dhere)

Eth man suka uth chale sudama
Bich mai -2 kana chale dhere dhere
(Shyam teri bansi baje dhere dhere)

Eth lalita uth chale vishaka
Oh chale vishaka, han chale vishaka
Bich mai-2 Radha chale dhere dhere
(Shyam teri bansi baje dhere dhere)

Kadam ki daal par jula padiyo hai
Jula padiyo hai , han jula padiyo hai
Saath mai khana jule dhere dhere
(Shyam teri bansi baje dhere dhere)

Kana teri bansi baje dhere dhere
Baje dhere dhere oh Yamuna ke teere
Shyam teri bansi baje dhere dhere

Koi kahe govinda koi gopala


Koi kahe govind koi gopala
Mai to kahu sawariya bansuri wala
govinda gopala

Radha ne shayam kaha, Meera ne ghirdhar
krishna ne krishn kaha ,kubja ne natwar
Guwalo ne tum ko, pukara gopala
Mai to kahu sawariya bansuri wala, govind gopala.

Maiya to kheti hai sun o kanaiya
Gahnshayam khete hai balraam bhaiya
surdas ke aankho ke tum ho ujala
Mai to kahu sawariya basnuri wala, govind gopala.

Bhisam ji k banwari , Arjun ke mohan
Chaliya khe kar pukare dhryodhan
Kans to kheta tha, Jalkar ke kala
Mai to kahu sawariya bansuri wala, govind gopala.

Achyut, Yudhisthir k Udhu k Madhav
Bhakto k bhagwan, santo k keshav
Gawalniya tum ko pukare nand lala.
Mai to kahu sawariya basuri wala, bolo govinda gopala.

Aisi laagi lagan

Aisi laagi lagan, Meera ho gayi magan,
woh to gali gali hari gun gaane lagi,
mehlon mein pali,ban ke jogan chali,
meera rani deewani kahane lagi.

Aisi laagi lagan..

Koi roke nahi, koi toke nahi,
meera govind gopal gaane lagi,
baith santon ke sang,rangi Mohan ke rang,
Meera premi pritam ko bulaane lagi
woh to gali gali hari gun gaane lagi....

Aisi laagi lagan..

rana ne vish diya, maano amrit piya,
meera sagar mein sarita samaane lagi,
dukh laakhon sahe,mukh se govind kahe,
Meera premi pritam ko bulaane lagi
woh to gali gali hari gun gaane lagi....

Aisi laagi lagan..

Kaun kehta hai ki bahgwan aate nahi



Achyutam keshvam, krishn damodaram, ram narayam , janki valabham.

Kaun kheta hai bhagwan aate nahi
Meera ke jaise tum bulate nahi (Achyutam keshvam…….)

Kaun kheta hai bhagwan khate nahi
Ber sabri k jaise khelate nahi (Achyutam keshvam…….)

Kaun kheta hai bhagwan soote nahi
Maa yasodha ke jaise sulate nahi (Achyutam keshvam…….)
Kaun kheta hai bhagwan nachte nahi
Gopiyo ki tarah tum nachte nahi (Achyutam keshvam…….)

Achyutam keshvam, krishn damodaram,
Ram narayam , janki valabham
Ram narayam , janki valabham
Ram narayam , janki valabham.

Misri se mitha hari naam


Misri se mitha hari naam , pita ja ghol ghol ke
gol gol ke , mukh khol khol ke
Misri se mitha hari naam pita ja ghol ghol ke

Hari ka naam jab bilni ne gaya
Aap mile bagwan pita ja ghol ghol ke
Misri se....

Hari ka naam jab dhropati ne gaya
Chir badaye bagwan pita ja ghol ghol ke
Misre se...

Hari ka naam jab meera gaya
Amrit banaye bagwan , pita ja ghol ghol ke
Misri se...

Hari ka naam jab bhakto ne gaya
Aanad badaye bagwan pita ja ghol ghol ke
Misri se mitha hari naam pita ja ghol ghol ke.

Dhoor nagari

Dhoor nagari badi dhoor nagari
kaisi aau mai kanai teri gokul nagari
badi dhoor nagari.

Raat ko aau kahna daar mohe laage
Din mai aau to dekhe saari nagari
Dhoor nagari badi dhoor nagari.

Sakhi saang aau kana saram mohe laage
Alelei aau to bhul jau dagari
dhoor nagari badi dhoor nagari

Dheere dheere chalu to kamar mohri lachke
Jatpat chalu to jalkaye gagri
dhoor nagari badi dhoor nagari

Meera kahye parbhu girdhar nagar
Thumre darash bin mai to ho gai bawari
dhoor nagari badi dhoor nagari

Kaise aau mai kanai teri gokul nagari
badi dhoor nagari.


Kab loge hamri kabriya, ho bajarang bali


Kab loge hamri kabriya, ho bajarang bali

Kaliyug ek pal picha na chhoDe
picha na chhode raama picha na chhode
pag pag paap ki gathariya ho bajarang bali.
han bolo kab loge hamri kabariya ho bajrang bali.

Kaam krodh madh loobh mita do
Loobh mita do madh loobh mita do
Moh maaya ki bajariya ho bajarang bali
Oh bolo kab loge hamri khabariya ho bajarang bali

Raam naam dhaan karlu kamaiye
karlu kamai oh karlu kamai,
Bardo maan ki tijuriya ho bajarang bali
han bolo kab loge hamri kabriya ho bajarang bali.

Hum to parbhu tore charan parat hai
charan parat tore charan parat hai
Mohe puchna raam ki nagariya ho bajarang bali.
Han bolo kab loge hamri khabriya ho bajarang bali.

In hindi:-
कब लोगे हमरी खबरिया, हो बजरंग बलि॥

कलियुग एक पल पिचा न छोड़े
पिचा न छोडे रामा पिचा न छोड़े
पग पग पाप की गठरिया हो बजरंग बलि.
हाँ बोलो कब लोगे हमरी खबरिया हो बजरंग बलि॥

काम क्रोध मध् लुभ मिटा दो
लुभ मिटा दो मध् लुभ मिटा दो
मोह माया की बजरिया हो बजरंग बलि
ओह बोलो कब लोगे हमरी खबरिया हो बजरंग बलि॥

राम नाम धान करलू कमाइए
करलू कमाई ओह करलू कमाई
भरदो मन की तिजुरिया हो बजरंग बलि
हाँ बोलो कब लोगे हमरी खबरिया हो बजरंग बलि॥

हम तो प्रभू तोरे चरण परत है
चरण परत तोरे चरण परत है
मोहे पोचाना राम की नगरिया हो बजरंग बलि।
हाँ बोलो कब लोगे हमरी खबरिया हो बजरंग बलि॥

Bajrang bali meri naav chali


Bajrang bali meri naav chali,
meri naav ko paar laga dena
Mujhe maaya moh ne ghare liya,
santap hirdhey ka mita dena.

Mai daas to aap ka janam se hu
Balak aur shishya bhi dharm se hu,
Nirlaj vimukh nij karm se hu,
chit se mere dosh bulaha dena.
Bajrang bali meri naav chali...

Dhurbal gadh eev aur din bhi hu
Nijkarm karya mati dhir bhi hu,
Balvir tere aadhin mai hu
Meri bigdi baat baana dene.
Bajrang bali meri naav chali...

Bal mujho de nirbhay kar do
yash shakti meri aksahy kar do,
Mera jivan amritmay kar do
sanjivan mujhko pila dena.
Bajrang bali meri naav chali..

Karuna nidhi naam to aap ka hai
Tum Raam dhut avi Raam kaho,
Chota sa hai ek kaam mera
Shri Raam se mujhe mila dena

Bajrang bali meri naav chali
Meri naav ko paar laga dena
Muhe maaya moh ne ghare liya
Santap hirdhey ka mita dena.

Hari Om Tatsat : Rajesh Mishra-9831057985

हनुमान लीला

संक्षिप्त हनुमान कथा

हनुमान .......आपार शक्ति, विवेक एवं शीलता तो उनका अक्स्मात परिचय हैं । लेकिन आज प्रभु के वो स्वरुप की अनुभुति हुई की मन मुग्ध हो गया ।

प्रभु तो पवनपुत्र हैं, लेकिन वो तो शंकर के भी पुत्र हैं । एक कथा शायद आपने सुनी ना हो । एक बार प्रभु शिव तथा माता पार्वती वन क्रीडा में लीन थे । दोनों वानर रूप धारण कर काम क्रीडा के उत्सुक हुए । किन्तु माता पार्वती ने वानर रूप धारी प्रभु शंकर के वीर्य को धारण करना अस्वीकार किया । प्रभु शंकर का वीर्य धारण करने के लिये वरुण देव उपस्थित हुये । जिस प्रकार कुमार कार्तिकेय के जऩ्म के समय अग़्नि ने प्रभु शिव का वीर्य धारण किया था उसी प्रकार आज वरुण ने किया । किन्तु जैसी उष्मा, जैसी शक्ति उसमे तब थी वैसी ही तो आज भी थी ना । वीर्य की रक्षा तो वरुण ने की किन्तु धारण तो उसे एक स्त्री की शीलता ही कर सकती थी । माँ अंजना ने प्रभु शिव के दैविक वीर्य को धारण किया और तब यह धरती प्रभु हनुमान के आगम्न से सुखी हुई । शिव-पार्वती, अंजना-केसरी, वरुण, सुर्य कितने ही असीम व्यकित्त्व हनुमान के जीवन में समावेश हैं । लेकिन हनुमान तो हनुमान तभी हुये जब प्रभु राम कि कृपा तथा सेवा से वो अनुग्रहित हुए । इतना दिव्य हो जिस प्रभु का जीवन, उस हनुमान को क्यूँ नहीं स्मरण करें?


प्रभु हनुमान कि वंदना शिव-शक्ति तथा विष्णु-लक्ष्मी वंदना का समावेश है । एक सुत्र है दो भक्ति समुदायों के बीच । एक सुत्र है मनुष्य को आलोकिक संसार से जोडने का । एक चेतना है जो यह अव्लोकन कराती है कि जब एक वानर प्रभु भक्ति में लीन हो सकता है, तो हम जीव शीरोमणि क्यों नहीं ?
भगवान राम त्रेतायुग में धर्म की स्थापना करके पृथ्वी से अपने लोक बैकुण्ठ चले गये लेकिन धर्म की रक्षा के लिए हनुमान को अमरता का वरदान दिया। इस वरदान के कारण हनुमान जी आज भी जीवित हैं। - राजेश मिश्रा 


जन्म

हनुमान जी का जन्म त्रेता युग मे अंजना(एक नारी वानर) के पुत्र के रूप मे हुआ था। अंजना असल मे पुन्जिकस्थला नाम की एक अप्सरा थीं, मगर एक शाप के कारण उन्हें नारी वानर के रूप मे धरती पे जन्म लेना पडा। उस शाप का प्रभाव शिव के अन्श को जन्म देने के बाद ही समाप्त होना था। अंजना केसरी की पत्नी थीं। केसरी एक शक्तिशाली वानर थे जिन्होने एक बार एक भयंकर हाथी को मारा था। उस हाथी ने कई बार असहाय साधु-संतों को विभिन्न प्रकार से कष्ट पँहुचाया था। तभी से उनका नाम केसरी पड गया, "केसरी" का अर्थ होता है सिंह। उन्हे "कुंजर सुदान"(हाथी को मारने वाला) के नाम से भी जाना जाता है।

केसरी के संग मे अंजना ने भगवान शिव कि बहुत कठोर तपस्या की जिसके फ़लस्वरूप अंजना ने हनुमान(शिव के अन्श) को जन्म दिया।

जिस समय अंजना शिव की आराधना कर रहीं थीं उसी समय अयोध्या-नरेश दशरथ, पुत्र प्राप्ति के लिये पुत्र कामना यज्ञ करवा रहे थे। फ़लस्वरूप उन्हे एक दिव्य फल प्राप्त हुआ जिसे उनकी रानियों ने बराबर हिस्सों मे बाँटकर ग्रहण किया। इसी के फ़लस्वरूप उन्हे राम, लषन, भरत और शत्रुघन पुत्र रूप मे प्राप्त हुए।

विधि का विधान ही कहेंगे कि उस दिव्य फ़ल का छोटा सा टुकडा एक चील काट के ले गई और उसी वन के ऊपर से उडते हुए(जहाँ अंजना और केसरी तपस्या कर रहे थे) चील के मुँह से वो टुकडा नीचे गिर गया। उस टुकडे को पवन देव ने अपने प्रभाव से याचक बनी हुई अंजना के हाथों मे गिरा दिया। ईश्वर का वरदान समझकर अंजना ने उसे ग्रहण कर लिया जिसके फ़लस्वरूप उन्होंने पुत्र के रूप मे हनुमान को जन्म दिया।

अंजना के पुत्र होने के कारण ही हनुमान जी को अंजनेय नाम से भी जाना जाता है जिसका अर्थ होता है 'अंजना द्वारा उत्पन्न'।


बालपन, शिक्षा एवँ शाप


हनुमान जी के धर्म पिता वायु थे, इसी कारण उन्हे पवन पुत्र के नाम से भी जाना जाता है। बचपन से ही दिव्य होने के साथ साथ उनके अन्दर असीमित शक्तियों का भण्डार था।

बालपन में एक बार सूर्य को पका हुआ फ़ल समझकर उसे वो उसे खाने के लिये उड़ कर जाने लगे, उसी समय इन्द्र ने उन्हे रोकने के प्रयास में वज्र से प्रहार कर दिया, वज्र के प्रहार के कारण बालक हनुमान कि ठुड्डी टूट गई और वे मूर्छित होके धरती पर गिर गये। इस घटना से कुपित होकर पवन देव ने संसार भर मे वायु के प्रभाव को रोक दिया जिसके कारण सभी प्राणियों मे हाहाकार मच गया। वायु देव को शान्त करने के लिये अंततः इन्द्र ने अपने द्वारा किये गये वज्र के प्रभाव को वापस ले लिया। साथ ही साथ अन्य देवताओं ने बालक हनुमान को कई वरदान भी दिये। यद्यपि वज्र के प्रभाव ने हनुमान की ठुड्डी पे कभी ना मिटने वाला चिन्ह छोड़ दिया।
तदुपरान्त जब हनुमान को सुर्य के महाग्यानि होने का पता चला तो उन्होंने अपने शरीर को बड़ा करके सुर्य की कक्षा में रख दिया और सुर्य से विनती की कि वो उन्हें अपना शिष्य स्वीकार करें। मगर सुर्य ने उनका अनुरोध ये कहकर अस्वीकार कर दिया कि चुंकि वो अपने कर्म स्वरूप सदैव अपने रथ पे भ्रमण करते रहते हैं, अतः हनुमान प्रभावपूर्ण तरीके से शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाएँगे। सुर्य देव की बातों से विचलित हुए बिना हनुमान ने अपने शरीर को और बड़ा करके अपने एक पैर को पूर्वी छोर पे और दूसरे पैर को पश्चिमी छोर पे रखकर पुनः सुर्य देव से विनती की और अंततः हनुमान के सतात्य(दृढ़ता) से प्रसन्न होकर सुर्य ने उन्हें अपना शिष्य स्वीकार कर लिया।
तदोपरान्त हनुमान ने सुर्य देव के साथ निरंतर भ्रमण करके अपनी शिक्षा ग्रहण की। शिक्षा पूर्ण होने के ऊपरांत हनुमान ने सुर्य देव से गुरु-दक्षिणा लेने के लिये आग्रह किया परन्तु सुर्य देव ने ये कहकर मना कर दिया कि 'तुम जैसे समर्पित शिष्य को शिक्षा प्रदान करने में मैने जिस आनंद की अनुभूती की है वो किसी गुरु-दक्षिणा से कम नहीं है'।

परन्तु हनुमान के पुनः आग्रह करने पर सुर्य देव ने गुरु-दक्षिणा स्वरूप हनुमान को सुग्रीव(धर्म पुत्र-सुर्य)की सहायता करने की आज्ञा दे दी।
हनुमान के इच्छानुसार सुर्य देव का हनुमान को शिक्षा देना सुर्य देव के अनन्त, अनादि, नित्य, अविनाशी और कर्म-साक्षी होने का वर्णन करता है।

हनुमान जी बालपन मे बहुत नटखट थे, वो अपने इस स्वभाव से साधु-संतों को सता देते थे। बहुधा वो उनकी पूजा सामग्री और आदि कई वस्तुओं को छीन-झपट लेते थे। उनके इस नटखट स्वभाव से रुष्ट होकर साधुओं ने उन्हें अपनी शक्तियों को भूल जाने का एक लघु शाप दे दिया। इस शाप के प्रभाव से हनुमान अपनी सब शक्तियों को अस्थाई रूप से भूल जाते थे और पुनः किसी अन्य के स्मरण कराने पर ही उन्हें अपनी असीमित शक्तियों का स्मरण होता था। ऐसा माना जाता है कि अगर हनुमान शाप रहित होते तो रामायण में राम-रावण युद्ध का स्वरूप पृथक(भिन्न, न्यारा) ही होता। कदाचित वो स्वयं ही रावण सहित सम्पूर्ण लंका को समाप्त कर देते।


रामायण युद्ध में हनुमान


रामायण के सुन्दर-काण्ड में हनुमान जी के साहस और देवाधीन कर्म का वर्णन किया गया है। हनुमानजी की भेंट रामजी से उनके वनवास के समय तब हुई जब रामजी अपने भ्राता लछ्मन के साथ अपनी पत्नी सीता की खोज कर रहे थे। सीता माता को लंकापति रावण छल से हरण करके ले गया था। सीताजी को खोजते हुए दोनो भ्राता ॠषिमुख पर्वत के समीप पँहुच गये जहाँ सुग्रीव अपने अनुयाईयों के साथ अपने ज्येष्ठ भ्राता बाली से छिपकर रहते थे। वानर-राज बाली ने अपने छोटे भ्राता सुग्रीव को एक गम्भीर मिथ्याबोध के चलते अपने साम्राज्य से बाहर निकाल दिया था और वो किसी भी तरह से सुग्रीव के तर्क को सुनने के लिये तैयार नहीं था। साथ ही बाली ने सुग्रीव की पत्नी को भी अपने पास बलपूर्वक रखा हुआ था।
राम और लछ्मण को आता देख सुग्रीव ने हनुमान को उनका परिचय जानने के लिये भेजा। हनुमान् एक ब्राह्मण के वेश में उनके समीप गये। हनुमान के मुख़ से प्रथम शब्द सुनते ही श्रीराम ने लछ्मण से कहा कि कोई भी बिना वेद-पुराण को जाने ऐसा नहीं बोल सकता जैसा इस ब्राह्मण ने बोला। रामजी को उस ब्राह्मण के मुख, नेत्र, माथा, भौंह या अन्य किसी भी शारीरिक संरचना से कुछ भी मिथ्या प्रतीत नहीं हुआ। रामजी ने लछ्मण से कहा कि इस ब्राह्मण के मन्त्रमुग्ध उच्चारण को सुनके तो शत्रु भी अस्त्र त्याग देगा। उन्होंने ब्राह्मण की और प्रसन्नसा करते हुए कहा कि वो नरेश(राजा) निःसंकोच ही सफ़ल होगा जिसके पास ऐसा गुप्तचर होगा। श्रीराम के मुख़ से इन सब बातों को सुनकर हनुमानजी ने अपना वास्तविक रूप धारण किया और श्रीराम के चरणों में नतमष्तक हो गये। श्रीरम ने उन्हें उठाकर अपने ह्र्दय से लगा लिया। उसी दिन एक् भक्त और भगवान का हनुमान और प्रभु राम के रूप मे अटूट और अनश्वर मिलन हुआ। ततपश्चात हनुमान ने श्रीराम और सुग्रीव की मित्रता करवाई। इसके पश्चात ही श्रीराम ने बाली को मारकर सुग्रीव को उनका सम्मान और गौरव वापस दिलाया और लंका युद्ध में सुग्रीव ने अपनी वानर सेना के साथ श्रीराम का सहयोग दिया।
सीता माता की खोज में वानरों का एक दल दक्षिण तट पे पँहुच गया। मगर इतने विशाल सागर को लांघने का साहस किसी में भी नहीं था। स्वयं हनुमान भी बहुत चिन्तित थे कि कैसे इस समस्या का समाधान निकाला जाये। उसी समय जामवन्त और बाकी अन्य वानरों ने हनुमान को उनकी अदभुत शक्तियों का स्मरण कराया। अपनी शक्तियों का स्मरण होते ही हनुमान ने अपना रूप विस्तार किया और पवन-वेग से सागर को उड़के पार करने लगे। रास्ते में उन्हें एक पर्वत मिला और उसने हनुमान से कहा कि उनके पिता का उसके ऊपर ॠण है, साथ ही उस पर्वत ने हनुमान से थोड़ा विश्राम करने का भी आग्रह किया मगर हनुमान ने किन्चित मात्र भी समय व्यर्थ ना करते हुए पर्वतराज को धन्यवाद किया और आगे बढ़ चले। आगे चलकर उन्हें एक राक्षसी मिली जिसने कि उन्हें अपने मुख में घुसने की चुनौती दी, परिणामस्वरूप हनुमान ने उस राक्षसी की चुनौती को स्वीकार किया और बड़ी ही चतुराई से अति लघुरूप धारण करके राक्षसी के मुख में प्रवेश करके बाहर आ गये। अंत में उस राक्षसी ने संकोचपूर्वक ये स्वीकार किया कि वो उनकी बुद्धिमता की परीक्षा ले रही थी।



आखिरकार हनुमान सागर पार करके लंका पँहुचे और लंका की शोभा और सुनदरता को देखकर आश्चर्यचकित रह गये। और उनके मन में इस बात का दुःख भी हुआ कि यदी रावण नहीं माना तो इतनी सुन्दर लंका का सर्वनाश हो जायेगा। ततपश्चात हनुमान ने अशोक-वाटिका में सीतजी को देखा और उनको अपना परिचय बताया। साथ ही उन्होंने माता सीता को सांत्वना दी और साथ ही वापस प्रभु श्रीराम के पास साथ चलने का आग्रह भी किया। मगर माता सीता ने ये कहकर अस्वीकार कर दिया कि ऐसा होने पर श्रीराम के पुरुषार्थ् को ठेस पँहुचेगी। हनुमान ने माता सीता को प्रभु श्रीराम के सन्देश का ऐसे वर्णन किया जैसे कोई महान ज्ञानी लोगों को ईश्वर की महानता के बारे में बताता है।
माता सीता से मिलने के पश्चात, हनुमान प्रतिशोध लेने के लिये लंका को तहस-नहस करने लगे। उनको बंदी बनाने के लिये रावण पुत्र मेघनाद(इन्द्रजीत) ने ब्रम्हास्त्र का प्रयोग किया। ब्रम्ह्मा जी का सम्मान करते हुए हनुमान ने स्वयं को ब्रम्हास्त्र के बन्धन मे बन्धने दिया। साथ ही उन्होंने विचार किया कि इस अवसर का लाभ उठाकर वो लंका के विख्यात रावण से मिल भी लेंगे और उसकी शक्ति का अनुमान भी लगा लेंगे। इन्हीं सब बातों को सोचकर हनुमान ने स्वयं को रावण के समक्ष बंदी बनकर उपस्थित होने दिया। जब उन्हे रावण के समक्ष लाया गया तो उन्होंने रावण को प्रभु श्रीराम का चेतावनी भरा सन्देश सुनाया और साथ ही ये भी कहा कि यदि रावण माता सीता को आदर-पूर्वक प्रभु श्रीराम को लौटा देगा तो प्रभु उसे क्षमा कर देंगे।

क्रोध मे आकर रावण ने हनुमान को म्रित्युदंड देने का आदेश दिया मगर रावण के छोटे भाई विभीषण ने ये कहकर बीच-बचाव किया कि एक दूत को मारना आचारसंहिता के विपरीत है। ये सुनकर रावण ने हनुमान की पूंछ में आग लगाने का आदेश दिय। जब रावण के सैनिक हनुमान की पूंछ मे कपड़ा लपेट रहे थे तब हनुमान ने अपनी पूंछ को खूब लम्बा कर लिया और सैनिकों को कुछ समय तक परेशान करने के पश्चात पूंछ मे आग लगाने का अवसर दे दिया। पूंछ मे आग लगते ही हनुमान ने बन्धनमुक्त होके लंका को जलाना शुरु कर दिया और अंत मे पूंछ मे लगी आग को समुद्र मे बुझा कर वापस प्रभु श्रीराम के पास आ गये।
लंका युद्ध में जब लछमण मूर्छित हो गये थे तब हनुमान जी को ही द्रोणागिरी पर्वत पर से संजीवनी बूटी लाने भेजा गया मगर वो बूटी को भली-भांती पहचान नहीं पाये, और पुनः अपने पराक्रम का परिचय देते हुए वो पूरा द्रोणागिरी पर्वत ही रण-भूमि में उठा लाये और परिणामस्वरूप लछमण के प्राण की रक्षा की। भावुक होकर श्रीराम ने हनुमान को ह्र्दय से लगा लिया और बोले कि हनुमान तुम मुझे भ्राता भरत की भांति ही प्रिय हो।


हनुमान का पंचमुखी अवतार भी रामायण युद्ध् कि ही एक घटना है। अहिरावण जो कि काले जादू का ग्याता था, उसने राम और लछमण का सोते समय हरण कर लिया और उन्हें विमोहित करके पाताल-लोक में ले गया। उनकी खोज में हनुमान भी पाताललोक पहुँच गये। पाताल-लोक के मुख्यद्वार एक युवा प्राणी मकरध्वज पहरा देता था जिसका आधा शरीर मछली का और आधा शरीर वानर का था। मकरध्वज के जन्म कि कथा भी बहुत रोचक है। यद्यपि हनुमान ब्रह्मचारी थे मगर मकरध्वज उनका ही पुत्र था। लंका दहन के पश्चात जब हनुमान पूँछ में लगी आग को बुझाने समुद्र में गये तो उनके पसीने की बूंद समुद्र में गिर गई। उस बूंद को एक मछली ने पी लिया और वो गर्भवती हो गई। इस बात का पता तब चला जब उस मछली को अहिरावण की रसोई में लाया गया। मछली के पेट में से जीवित बचे उस विचित्र प्राणी को निकाला गया। अहिरवण ने उसे पाल कर बड़ा किया और उसे पातालपुरी के द्वार का रक्षक बना दिया।

हनुमान इन सभी बातों से अनिभिज्ञ थे। यद्यपि मकरध्वज को पता था कि हनुमान उसके पिता हैं मगर वो उन्हें पहचान नहीं पाया क्योंकि उसने पहले कभी उन्हें देखा नहीं था।
जब हनुमान ने अपना परिचय दिया तो वो जान गया कि ये मेरे पिता हैं मगर फिर भि उसने हनुमान के साथ युद्ध करने का निश्चय किया क्योंकि पातालपुरि के द्वार की रक्षा करना उसका प्रथम कर्तव्य था। हनुमान ने बड़ी आसानी से उसे अपने आधीन कर लिया और पातलपुरी के मुख्यद्वार पर बाँध दिया।
पातालपुरी में प्रवेश करने के पश्चात हनुमान ने पता लगा लिया कि अहिरावण का वध करने के लिये उन्हे पाँच दीपकों को एक साथ बुझाना पड़ेगा। अतः उन्होंने पन्चमुखी अवतार(श्री वराह, श्री नरसिम्हा, श्री गरुण, श्री हयग्रिव और स्वयं) धारण किया और एक साथ में पाँचों दीपकों को बुझाकर अहिरावण का अंत किया। अहिरावण का वध होने के पश्चात हनुमान ने प्रभु श्रीराम के आदेशानुसार मकरध्वज को पातालपुरि का नरेश बना दिया।
युद्ध समाप्त होने के साथ ही श्रीराम का चौद्ह वर्ष का वनवास भी समाप्त हो चला था। तभी श्रीराम को स्मरण हुआ कि यदि वो वनवास समाप्त होने के साथ ही अयोध्या नहीं पँहुचे तो भरत अपने प्राण त्याग देंगे। साथ ही उनको इस बात का भी आभास हुआ कि उन्हें वहाँ वापस जाने में अंतिम दिन से थोड़ा विलम्ब हो जायेगा, इस बात को सोचकर श्रीराम चिंतित थे मगर हनुमान ने अयोध्या जाकर श्रीराम के आने की जानकारी दी और भरत के प्राण बचाकर श्रीराम को चिंता मुक्त किय।

अयोध्या में राज्याभिषेक होने के बाद प्रभु श्रीराम ने उन सभी को सम्मानित करने का निर्णय लिया जिन्होंने लंका युद्ध में रावण को पराजित करने में उनकी सहायता की थी। उनकी सभा में एक भव्य समारोह का आयोजन किया गया जिसमें पूरी वानर सेना को उपहार देकर सम्मानित किया गया। हनुमान को भी उपहार लेने के लिये बुलाया गया, हनुमान मंच पर गये मगर उन्हें उपहार की कोई जिज्ञासा नहीं थी। हनुमान को ऊपर आता देखकर भावना से अभिप्लुत श्रीराम ने उन्हें गले लगा लिया और कहा कि हनुमान ने अपनी निश्छल सेवा और पराक्रम से जो योगदान दिया है उसके बदले में ऐसा कोई उपहार नहीं है जो उनको दिया जा सके। मगर अनुराग स्वरूप माता सीता ने अपना एक मोतियों का हार उन्हें भेंट किया। उपहार लेने के उपरांत हनुमान माला के एक-एक मोती को तोड़कर देखने लगे, ये देखकर सभा में उपस्थित सदस्यों ने उनसे इसका कारण पूछा तो हनुमान ने कहा कि वो ये देख रहे हैं मोतियों के अन्दर उनके प्रभु श्रीराम और माता सीता हैं कि नहीं, क्योंकि यदि वो इनमें नहीं हैं तो इस हार का उनके लिये कोई मूल्य नहीं है। ये सुनकर कुछ लोगों ने कहा कि हनुमान के मन में प्रभु श्रीराम और माता सीता के लिये उतना प्रेम नहीं है जितना कि उन्हें लगता है। इतना सुनते ही हनुमान ने अपनी छाती चीर के लोगों को दिखाई और सभी ये देखकर स्तब्द्ध रह गये कि वास्त्व में उनके ह्रदय में प्रभु श्रीराम और माता सीता की छवि विद्यमान थी।

हनुमद रामायण

ऐसा माना जाता है कि प्रभु श्रीराम की रावण के ऊपर विजय प्राप्त करने के पश्चात ईश्वर की आराधना के लिये हनुमान हिमालय पर चले गये थे। वहाँ जाकर उन्होंने पर्वत शिलाओं पर अपने नाखून से रामायण की रचना की जिसमे उन्होनें प्रभु श्रीराम के कर्मों का उल्लेख किया था। कुछ समयोपरांत जब महर्षि वाल्मिकी हनुमानजी को अपने द्वारा रची गई रामायण दिखाने पहुँचे तो उन्होंने हनुमानजी द्वारा रचित रामायण भी देखी। उसे देखकर वाल्मिकी तोड़े निराश हो गये तो हनुमान ने उनसे उनकी निराशा का कारण पूछा तो महर्षि बोले कि उन्होने कठोर परिश्रम के पश्चात जो रामायण रची है वो हनुमान की रचना के समक्ष कुछ भी नहीं है अतः आने वाले समय में उनकी रचना उपेक्षित रह जायेगी। ये सुनकर हनुमान ने रामायण रचित पर्वत शिला को एक कन्धे पर उठाया और दूसरे कन्धे पर महर्षि वाल्मिकी को बिठा कर समुद्र के पास गये और स्वयं द्वारा की गई रचना को राम को समर्पित करते हुए समुद्र में समा दिया। तभी से हनुमान द्वारा रची गई हनुमद रामायण उपलब्ध नहीं है।

तदुपरांत महर्षि वाल्मिकी ने कहा कि तुम धन्य हो हनुमान, तुम्हारे जैसा कोइ दूसरा नहीं है और साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि वो हनुमान की महिमा का गुणगान करने के लिये एक जन्म और लेंगे। इस बात को उन्होने अपनी रचना के अंत मे कहा भी है।

माना जाता है कि रामचरितमानस के रचयिता कवि तुलसी दास कोई और नहीं बल्कि महर्षि वाल्मिकी का ही दूसरा अवतार थे।

महाकवि तुलसीदास के समय में ही एक पटलिका को समुद्र के किनारे पाया गया जिसे कि एक सार्वजनिक स्थल पर टाँग दिया गया था ताकी विद्यार्थी उस गूढ़लिपि को पढ़कर उसका अर्थ निकाल सकें। माना जाता है कि कालीदास ने उसका अर्थ निकाल लिया था और वो ये भी जान गये थे कि ये पटलिका कोई और नहिं बल्कि हनुमान द्वारा उनके पूर्व जन्म में रची गई हनुमद् रामायण का ही एक अंश है जो कि पर्वत शिला से निकल कर ज़ल के साथ प्रवाहित होके यहाँ तक आ गई है। उस पटलिका को पाकर तुलसीदास ने अपने आपको बहुत भग्यशाली माना कि उन्हें हनुमद रामायण के श्लोक का एक पद्य प्राप्त हुआ।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    8 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook