आपका स्वागत है...

मैं
135 देशों में लोकप्रिय
इस ब्लॉग के माध्यम से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुचाना चाहता हूँ.. इसमें आपका साथ मिल जाये तो बहुत ख़ुशी होगी.. इस ब्लॉग में पुरे भारत और आस-पास के देशों में हिन्दू धर्म, हिन्दू पर्व त्यौहार, देवी-देवताओं से सम्बंधित धार्मिक पुण्य स्थल व् उनके माहत्म्य, चारोंधाम,
12-ज्योतिर्लिंग, 52-शक्तिपीठ, सप्त नदी, सप्त मुनि, नवरात्र, सावन माह, दुर्गापूजा, दीपावली, होली, एकादशी, रामायण-महाभारत से जुड़े पहलुओं को यहाँ देने का प्रयास कर रहा हूँ.. कुछ त्रुटी रह जाये तो मार्गदर्शन करें...
वर्ष भर (2017) का पर्व-त्यौहार (Year's 2016festival) नीचे है…
अपना परामर्श और जानकारी इस नंबर
9831057985 पर दे सकते हैं....

धर्ममार्ग के साथी...

लेबल

आप जो पढना चाहते हैं इस ब्लॉग में खोजें :: राजेश मिश्रा

18 सितंबर 2013

नवरात्र

पश्चिम बंगाल में बंगाली परिवारों का शारदीय नवरात्र

  • राजेश मिश्रा

व्रत, उपवास, पूजन विधि, कुमारी पूजा, लगने वाले सामानों की संक्षिप्त जानकारी

वैसे तो पश्चिम बंगाल में बंगाली परिवारों का शारदीय नवरात्र ही मुख्य पर्व होता है जिसे वे ""शारदीय दुर्गापूजा'' के रूप में मनाते हैं। पर यहां रहने वाले अबंगाली लोगों के लिए यह शारदीय उत्सव नवरात्र के रूप चरमोत्कर्ष पर रहता है। पूरे बंगाल में डांडिया व दुर्गापूजा की धूम देखते ही बनती है। पूरे 10-12 दिन बंगाल में बिजली के रंगीन बल्बों और चहल-पहल से यह नवरात्र उत्सव महाउत्सव में तब्दील हो जाता है और इसका अन्त माता दुर्गाजी के मूर्ति विसर्जन "आस्छे बछर आबार होबे' (अगले वर्ष फिर होगा) के नारे के साथ होता है। यहॉं का मूर्ति विसर्जन का रौनक भी देखते ही बनता है। इस मौके पर विशेषकर बंगाली रहन-सहन के क्षेत्रों में बंगाल का संस्कृति झलकता है। बंगाली परिवार इस दिन प्रतियोगिता आयोजित करते हैं जिसमें बच्चे से लेकर बूढ़े तक शामिल होते हैं और अपने पारंपरिक संस्कृति से जुड़े कई रीति-रिवाजों को विभिन्न प्रतियोगिताओं के तहत बच्चों एवं अबंगालियों को शिक्षा देते हैं। तत्‌पश्चात शुरू होता है "सिदूर खेला'। यानि मॉं दुर्गा को विदाई देने के लिए सुहागिन महिलाएं अपने घर से जिस तरह से कोई महिला अपने घर से बेटी की विदाई करती है उसी रह से पूरी तैयारी के साथ मंडप में मॉं को मिठा खिलाकर, पानी से पिलाकर सिंदूर लगाती हैं एवं आपस में भी सिंदूर की होली खेलती हैं जो देखने में बहुत ही आनन्द बोध होता है। मैंने इस तथ्य को इसलिए उल्लेख किया है क्योंकि मैं 1989 के बाद ज्यादातर बंगाली क्षेत्रों या बंगाली परिवार में ही अपना बसेरा (घर भाड़ा) बना रखा था।
भारतीय चिंतनधारा में साधना आध्यात्मिक ऊर्जा और दैवी चेतना के विकास का सबसे विश्वसनीय साधन माना जाता है। तन्त्रगमों के अनुसार यह साधना नित्य एवं नैमित्तिक भेद से दो प्रकार की होती है। जो साधना जीवनभर एवं निरंतर की जाती है, वह नित्य साधना कहलाती है। रुद्रयामल तंत्र के अनुसार ऐसी साधना साधक का धर्म है। किन्तु संसार एवं घर गृहस्थी के चक्रव्यूह में फंसे आम लोगों के पास न तो इतना समय होता है और नहीं इतना सामथ्र्य कि वे नित्य साधना कर सकें। अत: सद्गृहस्थों के जीवन में आने वाले कष्टों/दु:खों की निवृत्ति के लिए हमारे ऋषियों ने नैमित्तिक साधना का प्रतिपादन किया है। नैमित्तिक-साधना के इस महापर्व को नवरात्र कहते हैं।

दुर्गापूजा का प्रयोजन

महामाया के प्रभाववश सांसारिक प्राणी अपनी इच्छाओं के वशीभूत होकर कभी जाने और कभी अनजाने में दु:खों के दलदल में फंसता चला जाता है। जैसा कि मार्कण्डेय पुराण में कहा गया है-
ज्ञानिनामपि चेतांहि देवी भगवती हि सा।
बलादाकृष्य मोहाय महामाया प्रगच्छति।।
इन सांसारिक कष्टों से, जिनको धर्म की भाषा में दुर्गति कहते हैं-इनसे मुक्ति के लिए मॉं दुर्गा की उपासना करनी चाहिए क्योंकि आराधिता सैव नृणां भोगस्वगपिवर्गहा मार्कण्डेय पुराण के इस वचन के अनुसार मॉं दुर्गा की उपासना करने से स्वर्ग जैसे भोग और मोक्ष जैसी शान्ति मिल जाती है। भारतीय जनमानस उस आद्या शक्ति दुर्गा को मॉं या माता के रूप में देखता और मानता है। इस विषय में आचार्य शंकर का मानना है कि जैसे पुत्र के कुपुत्र होने पर भी माता कुमाता नहीं होती। वैसी भगवती दुर्गा अपने भक्तों का वात्सल्य भाव से कल्याण करती है। अत: हमें उनकी पूजा/उपासना करनी चाहिए।

नवदुर्गा

एकैवाहं जगत्यत्र द्वितीया का ममापरा- दुर्गासप्तशती के इस वचन के अनुसार वह आद्यशक्ति एकमेव और अद्वितीय होते हुए भी अपने भक्तों का कल्याण करने के लिए - 1. शैलपुत्री,  2. ब्रह्मचारिणी, 3. चन्द्रघण्टा, 4. कूष्माण्डा, 5.  स्कन्धमाता, 6. कात्यायनी, 7. कालरात्रि, 8. महागौरी एवं 9. सिद्धिदात्री - इन नवदुर्गा के रूप में अवतरित होती है। वही जगन्माता सत्त्व, रजस् एवं तमस्- इन गुणों के आधार पर महाबाली, महालक्ष्मी एवं महासरस्वती के रूप में अपने भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करती हैं।

दुर्गा-दुर्गतिनाशिनी

रुद्रयामल तन्त्र में आद्याशक्ति के दुर्गा नाम का निर्वचन करते हुए प्रतिपादित किया गया है - कि जो दुर्ग के समान अपने भक्तों की रक्षा करती है अथवा जो अपने भक्तों को दुर्गति से बचाती है, वह आद्याशक्ति दुर्गा कहलाती है।

दुर्गापूजा का काल

वैदिक ज्योतिष की काल-गणना के अनुसार हमारा एक वर्ष देवी-देवताओं का एक अहोरात्र (दिन-रात) होता है। इस नियम के अनुसार मेषसंक्रांति को देवताओं का प्रात:काल और तुला संक्रांति को उनका सायंकाल होता है।
इसी आधार पर शाक्त तन्त्रों ने मेषसंक्रांति के आसपास चेत्र शुक्ल प्रतिपदा से बासन्तिक नवरात्रि और तुला संक्रांति के आसपास आश्विन शुक्ल प्रतिपदा से शारदीय नवरात्र का समय निर्धारित किया है। नवरात्रि के ये नौ दिन दुर्गा पूजा के लिए सबसे प्रशस्त होते हैं।

शारदीय नवरात्र का महत्व 

इन दोनों नवरात्रियों में शारदीय नवरात्र की महिमा सर्वोपरि है। शरदकाले महापूजा क्रियते या च वाष्रेकी। दुर्गा सप्तशती के इस वचन के अनुसार शारदीय नवरात्र की पूजा वार्षिक पूजा होने के कारण महापूजा कहलाती है। गुजरात-महाराष्ट्र से लेकर बंगाल-असम तक पूरे उत्तर भारत में इन दिनों दुर्गा पूजा का होना, घर-घर में दुर्गापाठ, व्रत-उपवास एवं कन्याओं का पूजन होगा - इसकी महिमा और जनता की आस्था के मुखर साक्ष्य हैं।

कन्या-पूजन

अपनी कुल परम्परा के अनुसार कुछ लोग नवरात्र की अष्टमी को और कुछ लोग नवमी को मॉं दुर्गा की विशेष पूजा एवं हवन करने के बाद कन्यापूजन करते हैं। कहीं-कहीं यह पूजन सप्तमी को भी करने का प्रचलन है।
कन्या पूजन में दो वर्ष से दस वर्ष तक की आयु वाली नौ कन्याओं और एक बटुक का पूजन किया जाता है। इसकी प्रक्रिया में सर्वप्रथम कन्याओं के पैर धोकर, उनके मस्तक पर रोली-चावल से टीका लगाकर, हाथ में कलावा (मौली) बॉंध, पुष्प या पुष्पमाला समर्पित कर कन्याओं को चुनरी उढ़ाकर हलवा, पूड़ी, चना एवं दक्षिणा देकर श्रद्धापूर्वक उनको प्रणाम करना चाहिए। कुछ लोग अपनी परंपरा के अनुसार कन्याओं को चूड़ी, रिबन व श्रृंगार की वस्तुएं भी भेंट करते हैं। कन्याएं मॉं दुर्गा का भौतिक एक रूप हैं। इनकी श्रृद्धाभक्ति से पूजा करने से मॉं दुर्गा प्रसन्न होती हैं।

नवरात्र में उपवास

व्रतराज के अनुसार नवरात्र के व्रत में - निराहारो फलाहारो मिताहारो हि सम्मत: - अर्थात्‌ निराहार, फलाहार या मिताहार करके व्रत रखना चाहिए। निराहार व्रत में केवल एक जोड़ा लौंग के साथ जल पीकर व्रत रखा जाता है। फलाहारी व्रत में एक समय फलाहार की वस्तुओं से भोजन किया जाता है, और मिताहारी व्रत में शुद्ध, सात्विक एवं शाकाहारी हविष्यान्न का ग्रहण होता है। नवरात्रि के व्रत में नौ दिन व्रत रखकर नवमी को कन्या पूजन के बाद पारणा किया जाता है। जिन लोगों के अष्टमी पुजती है, वे अष्टमी को कन्या पूजन के बाद पारणा कर लेते हैं। यदि नौ दिन का व्रत रखने का सामथ्र्य हो, तो नवरात्र की प्रतिपदा, सप्तमी अष्टमी एवं नवमी में किसी एक या दो दिन का व्रत अपनी श्रद्धा एवं शक्ति के अनुसार रखना चाहिए।
तन्त्रगम के अनुसार व्रत के दिनों में आचार एवं विचार की शुद्धता का पालन करने पर जोर दिया गया है। अत: व्रत के दिनों में चोरी, झूठ, क्रोध, ईष्र्या, राग, द्वेष एवं किसी भी प्रकार का छल-छिद्र नहीं करना चाहिए। तात्पर्य यह है कि व्रत के दिनों में मन, वचन एवं कर्म से किसी का दिल दु:खाना नहीं चाहिए। जहां तक सम्भव हो, दूसरों का भला करना चाहिए।

पूजा के उपचार

पूजा में जो सामग्री चढ़ाई जाती है, उनको उपचार कहते हैं, ये पंचोपचार, दशोपचार एवं षोडशोपचार के भेद से तीन प्रकार के होते हैं।
पंचोपचार :  गन्ध, पुष्प, धूप, दीप एवं नैवेद्य - इन पॉंचों को पंचोपचार कहते हैं।
दशोपचार : 1. पाध, 2. अघ्र्य, 3. आचमनीय,  4. मधुपर्क, 5. आचमनीय, 6. गन्ध, 7. पुष्प, 8. धूप, 9. दीप एवं 10. नैवेद्य -  इनको दशोपचार कहते हैं।
षोडशोपचार : 1. आसन, 2. स्वागत, 3. पाध,    4. अर्घ्य, 5. आचमनीय, 6. मधुपर्क, 7. आचमन, 8. स्नान, 9. वस्त्र, 10. आभूषण, 11. गन्ध, 12. पुष्प, 13. धूप, 14. दीप, 15. नैवेद्य एवं प्रणामाज्जलि, इनको षोडशोपचार कहते हैं।
व्रत/उपवास के फलाहार की वस्तुएं
आलू, शक रकन्द, जिमिकन्द, दूध, दही, खोआ, खोआ से बनी मिठाइयों, कुट्ट, सिन्घाड़ा, साबूदाना, मूंगफली, मिश्री, नारियल, गोला, सूखे मेवा एवं मौसम के सभी फल-व्रतोपवास के फलाहार में प्रशस्त माने गये हैं। फलाहार की कोई भी वस्तु तेल में नहीं बनायी जाती और सादा नमक के स्थान पर सैन्धा (लाहौरी) नमक प्रयोग में लाया जाता है।
सप्तमी/अष्टमी/नवमी की पूजा
नवरात्र में अपनी कुल परम्परा के अनुसार सप्तमी, अष्टमी या नवमी को मॉं दुर्गा की विशेष पूजा की जाती है। इसमें एकाग्रतापूर्वक जप, श्रद्धा एवं भक्ति से पूजन एवं हवन, मनोयोगपूर्वक पाठ तथा विधिवत कन्याओं का पूजन किया जाता है। इससे मनुष्य की सभी कामनाएं पूरी हो जाती हैं।

मेरी ब्लॉग सूची

  • World wide radio-Radio Garden - *प्रिये मित्रों ,* *आज मैं आप लोगो के लिए ऐसी वेबसाईट के बारे में बताने जा रहा हूँ जिसमे आप ऑनलाइन पुरे विश्व के रेडियों को सुन सकते हैं। नीचे दिए गए ल...
    4 माह पहले
  • जीवन का सच - एक बार किसी गांव में एक महात्मा पधारे। उनसे मिलने पूरा गांव उमड़ पड़ा। गांव के हरेक व्यक्ति ने अपनी-अपनी जिज्ञासा उनके सामने रखी। एक व्यक्ति ने महात्मा से...
    6 वर्ष पहले

LATEST:


Windows Live Messenger + Facebook